National Wheels

75 हजार करोड़ के निवेश उतरेंगे जमीन पर, 3 जून को ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह का पीएम करेंगे शुभारंभ

75 हजार करोड़ के निवेश उतरेंगे जमीन पर, 3 जून को ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह का पीएम करेंगे शुभारंभ

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की योगी सरकार दूसरी पारी की शुरुआत में ही पहली पारी के अधूरे कार्यों को पूरा करने की धुन में लगी है। 03 जून को निजी निवेशकों की ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी के जरिए 75 हजार करोड़ रुपये के निवेश को धरातल पर उतार,ने की तैयारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस आयोजन का शुभारंभ करेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत 70 वर्षों में उत्तर प्रदेश जितना निवेश नहीं हुआ, उससे अधिक निवेश विगत 05 वर्षों में प्रदेश में हुआ है। आगामी 03 जून को हम लखनऊ में प्रधानमंत्री जी को 75 हजार करोड़ से अधिक निजी निवेश के प्रस्ताव को जमीनी धरातल पर उतारने की कार्यवाही को आगे बढ़ाने के कार्यक्रम में आमंत्रित कर रहे हैं। 03 लाख करोड़ रुपये से अधिक निवेश प्रदेश में पहले ही लागू कर चुके हैं। कोरोना कालखण्ड में भी प्रदेश में हम निवेश के बेहतर गंतव्य के रूप में कार्य कर रहे थे। उत्तर भारत का पहला डाटा सेण्टर कोरोना कालखण्ड में जनपद गौतमबुद्धनगर में स्थापित कर रहे हैं। कोरोना कालखण्ड में 65 हजार करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव उत्तर प्रदेश में आए। उत्तर प्रदेश ने यह सभी कार्य प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में आगे बढ़ाए हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि उत्तर प्रदेश देश की आत्मा भी है और हृदय स्थल भी है। प्रदेश को यह गौरव प्राप्त है कि भगवान राम ने यहां जन्म लिया। भगवान श्रीकृष्ण ने यहां जन्म लिया और अपनी लीलाओं का प्रदर्शन भी किया।

मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास से राष्ट्रीय साप्ताहिक ‘पांचजन्य’ द्वारा आयोजित मुख्यमंत्री संवाद, मीडिया कॉनक्लेव तथा मीडिया पुरस्कार समारोह को वर्चुअल माध्यम से सम्बोधित कर रहे थे। ‘पांचजन्य’ को उसकी सफल यात्रा के लिए बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि जब देश अपनी आजादी के अमृत महोत्सव को मनाने व उसके भव्यतापूर्वक आयोजन की तैयारी कर रहा है, उस समय ‘पांचजन्य’ अपने अमृत महोत्सव वर्ष में प्रवेश कर रहा है। यह क्षण प्रत्येक व्यक्ति, संस्था के सामने आने वाला दुलर्भ क्षण होता है। जिन मनीषियों, राष्ट्र ऋषियों का आशीर्वाद व मार्गदर्शन ‘पांचजन्य’ जैसे राष्ट्रीय साप्ताहिक को प्राप्त हुआ है, उनमें श्रद्धेय भाउराव देवरस जी, पं0 दीनदयाल उपाध्याय जी तथा देश के पूर्व प्रधानमंत्री श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी शामिल हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 05 वर्ष पूर्व लोग यह मानते थे कि उत्तर प्रदेश, देश के विकास में बाधा उत्पन्न करने वाला राज्य है, लेकिन प्रधानमंत्री के नेतृत्व में विगत 05 वर्षों में एक राष्ट्रवादी सोच के साथ एक ईमानदार सरकार नेे परिणाम दिए हैं। विगत 05 वर्ष के अंदर देश की लगभग 04 दर्जन योजनाओं, जिनमें वर्ष 2017 से पूर्व उत्तर प्रदेश का कोई स्थान नहीं था, आज उन सभी में उत्तर प्रदेश प्रथम स्थान पर है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2012 से 2017 के बीच उत्तर प्रदेश में 700 से अधिक बड़े दंगे हुए थे। मुजफ्फरनगर, बरेली, मुरादाबाद, मेरठ, बुलन्दशहर, कानपुर, अयोध्या, लखनऊ में महीनों तक कर्फ्यू लगा रहता था। विगत 05 वर्षों में उत्तर प्रदेश में कोई दंगा नहीं हुआ है। आज उत्तर प्रदेश का प्रत्येक निवासी अपने को सुरक्षित महसूस कर रहा है। उत्तर प्रदेश के अंदर बेटियां, माताएं, बहनें अपने को सुरक्षित महसूस कर रही हैं। चुनावों के दौरान आधी आबादी ने जाति-मजहब से ऊपर उठकर भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में अपना समर्थन दिया और नयी सरकार का गठन किया। राम नवमी पर कई राज्यों में दंगे हुए, लेकिन उत्तर प्रदेश में सरकार का गठन होने के बाद रामनवमी का आयोजन भव्यता के साथ सम्पन्न हुआ। किसी प्रकार का कोई दंगा व विवाद नहीं हुआ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में हनुमत जयन्ती का कार्यक्रम शांतिपूर्वक सम्पन्न हुआ। यह वही उत्तर प्रदेश है, जहां छोटी-छोटी बातों के लिए दंगे होते थे, लेकिन पहली बार अलविदा व ईद की नमाज सड़कों पर नहीं पढ़ी गयी। पहली बार धर्मस्थलों से 01 लाख से अधिक माइक या तो हटाए गए, या उनकी आवाज कम की गयी। अब वही माइक स्कूलों व अस्पतालों को उनके कार्यक्रमों के संचालन के लिए दान दिए जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश में इस दौरान डबल इंजन की सरकार ने एक बेहतर परिणाम दिया है। उत्तर प्रदेश, देश की नम्बर 02 अर्थव्यवस्था बनने की ओर अग्रसर हुआ है, जबकि 70 वर्षों में उत्तर प्रदेश छठी अर्थव्यवस्था बन पाया था। आज उत्तर प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय विगत 05 वर्षों में दोगुनी से अधिक हो गयी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि व्यावसायिक सुगमता की दृष्टि से ईज़ ऑफ डुइंग बिजनेस रैंकिंग में उत्तर प्रदेश 14वें स्थान से आज दूसरे स्थान पर है। ईज ऑफ लिविंग में प्रधानमंत्री जी के विजन के अनुरूप कार्य करते हुए उत्तर प्रदेश केन्द्र सरकार की 44 योजनाओं में देश में प्रथम स्थान पर है। पहले लोग इसकी कल्पना भी नहीं करते थे। विकास के सर्वाधिक कार्य उत्तर प्रदेश में हो रहे हैं। उत्तर प्रदेश आज एक्सप्रेस-वे प्रदेश के रूप में भी जाना जा रहा है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण प्रधानमंत्री जी के कर-कमलों से नवम्बर, 2021 में हो चुका है। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे आगामी जून माह में पूर्ण हो जाएगा। गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। गंगा एक्सप्रेस-वे का कार्य प्रारम्भ हो चुका है। दिल्ली-मेरठ 12 लेन का एक्सप्रेस-वे क्रियाशील हो चुका है। आज दिल्ली से मेरठ की दूरी मात्र 45 मिनट में पूरी की जा सकती है। पहले इसे तय करने में 03 से 04 घण्टे लगते थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के अंदर सर्वाधिक शहरों में मेट्रो वाला राज्य उत्तर प्रदेश है। देश के अंदर बेहतर एयर कनेक्टिविटी का राज्य भी उत्तर प्रदेश है। वर्ष 2017 के पहले हमारे पास केवल 02 क्रियाशील एयरपोर्ट थे। आज उत्तर प्रदेश में 09 क्रियाशील एयरपोर्ट हैं। जनपद कुशीनगर में अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट क्रियाशील हो चुका है। अयोध्या में अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाने की कार्यवाही युद्ध स्तर पर चल रही है। जनपद गौतमबुद्धनगर के जेवर में भी एक इण्टरनेशनल एयरपोर्ट का निर्माण हो रहा है। 05 इण्टरनेशनल एयरपोर्ट वाला देश का पहला राज्य उत्तर प्रदेश बनने जा रहा है। एयर कनेक्टिविटी विकास को एक तीव्रता देती है। यह जीवन को आसान करती है। लोगों के गंतव्य को आसान बनाती है। समय की बचत के साथ ही यह लोगों की सोच में व्यापक परिवर्तन का कार्य भी करती है और यह सभी कार्य आज उत्तर प्रदेश में सुगमतापूर्वक आगे बढ़ रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 38 जिले ऐसे थे, जो पहले संचारी रोग से बुरी तरह प्रभावित थे। इंसेफेलाइटिस, डेंगू, मलेरिया, कालाजार, चिकनगुनिया और अनेक बीमारियों से हजारों बच्चों की मृत्यु प्रतिवर्ष होती थीं। आज सरकारी प्रबन्धन से मासूम बच्चों की जान को बचाया गया है। इंसेफेलाइटिस पूरी तरह नियंत्रण में है। डेंगू एवं मलेरिया नियंत्रण में है। चिकनगुनिया, कालाजार के उन्मूलन की दिशा में सरकार मजबूती से कदम बढ़ा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अपनी परम्परागत पहचान, सभ्यता व संस्कृति के लिए भी प्रदेश सरकार ने काम किया है। लगभग 5,600 से अधिक गौआश्रय स्थल वर्तमान में प्रदेश में संचालित हो रहे हैं। इनमें 09 लाख से अधिक निराश्रित गोवंश हैं। पवित्रता के साथ इन कार्यक्रमों को आगे बढ़ाया जा रहा है। प्रधानमंत्री के आशीर्वाद से वाराणसी में गोबरधन योजना के अन्तर्गत गाय के गोबर से सी0एन0जी0 बनाने की नई पद्धति को आगे बढ़ाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार गोवंश की रक्षा के लिए 03 प्रकार की योजनाएं संचालित कर रही है। राज्य सरकार प्राकृतिक खेती के साथ भी इसे जोड़ने का कार्य कर रही है, जिसके लिए वृहद स्तर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने ‘पांचजन्य’ द्वारा प्रदेश, देश के हित में किए जाने वाले अभियान के लिए शुभकामनाएं प्रदान कीं। उन्होंने कहा कि आज ‘पांचजन्य’ का डिजिटल प्लेटफॉर्म देखकर बहुत प्रसन्नता होती है। इस कार्य को और अच्छे ढंग से आगे बढ़ाने की आवश्यकता है। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री को ‘पांचजन्य’ के उत्तर प्रदेश ब्यूरो चीफ सुनील राय ने भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति भेंट की।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.