National Wheels

2047 तक स्वदेशी हथियारों से लैस नौसेना बनेगी ‘आत्मनिर्भर’, 3000 अग्निवीर नौसेना में शामिल

2047 तक स्वदेशी हथियारों से लैस नौसेना बनेगी ‘आत्मनिर्भर’, 3000 अग्निवीर नौसेना में शामिल

4 दिसंबर को नौसेना दिवस मनाया जाता है। यह दिन 1971 में पाकिस्तान के साथ युद्ध में भारतीय नौसेना के अदम्‍य साहस को याद करने के लिए मनाया जाता है। इस युद्ध में भारतीय युद्धपोतों ने कराची बंदरगाह पर हमला कर पश्चिमी तट पर पाकिस्तानी कार्रवाई को विफल कर दिया था। इस ऑपरेशन ट्राइडेंट में भारतीय नौसेना ने पी.एन.एस. खैबर सहित चार पाकिस्तानी पोत डूबो दिये थे। इस मौके पर नौसेना अध्यक्ष एडमिरल आर. हरि कुमार ने नौसेना कहा कि जब हम आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर अमृत महोत्सव मना रहे हैं, नौसेना भी राष्ट्र की सेवा में एक कॉम्बेट रेडी क्रेडिबल, कोहेसिव और फ्यूचर प्रुफ फोर्स के रूप में अमृतकाल तक एक आत्मनिर्भर फोर्स बनने के लिए पूरी तरह से कमीटेड है। हम भारत की सुरक्षा इन्श्योर करने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेंगे। भारत की समुद्री सीमा और हितों की रक्षा के प्रति समर्पित रहेंगे। इसके साथ ही उन्होंने नौसेना में शानिल अग्निवीरों के बारे में भी जानकारी दी।

मेड इन इंडिया सुरक्षा उपाय हो रहे शामिल

नौसेना अध्यक्ष एडमिरल आर. हरि कुमार ने कहा है कि नौसेना का लक्ष्‍य मेड इन इंडिया सुरक्षा उपायों को शामिल कर रक्षा क्षेत्र में आत्‍मनिर्भरता को बढाना है। एडमिरल आर हरि कुमार ने ‘आत्मनिर्भरता’ पर जोर देते हुए कहा कि भारतीय नौसेना 2047 तक पूरी तरह आत्मनिर्भर हो जाएगी। नौसेना के पास विभिन्न लड़ाकू प्लेटफॉर्म, हथियार, जहाज, पनडुब्बियां, टोही विमान स्वदेश निर्मित होंगे। नौसेनाध्यक्ष ने कहा कि देश का पहला स्वदेशी विमानवाहक आईएनएस विक्रांत हमारी स्वदेशी क्षमता का प्रतीक है और यह हमारे आत्मविश्वास को दर्शाता है। मुझे यकीन है कि विक्रांत आने वाले वर्षों में हिंद-प्रशांत क्षेत्र में गर्व से तिरंगा फहराएगा।

हिंद महासागर के सभी घटनाक्रमों पर कड़ी नजर

उन्होंने कहा कि भारत हिंद महासागर के सभी घटनाक्रमों पर कड़ी नजर रख रहा है, जिसमें चीनी नौसेना के जहाजों की आवाजाही भी शामिल है। हिंद महासागर क्षेत्र (आईओआर) में बहुत सारे चीनी जहाज काम करते हैं। इस समय चीनी नौसेना के लगभग 4 से 6 जहाज और कुछ शोध पोत हिंद महासागर में हैं। इसके अलावा बड़ी संख्या में मछली पकड़ने के चीनी जहाज हिंद महासागर क्षेत्र में संचालित होते हैं। उन्होंने बताया कि हिंद महासागर क्षेत्र में लगभग 60 अन्य अतिरिक्त क्षेत्रीय बल हमेशा मौजूद रहते हैं। हम सभी घटनाक्रमों पर पैनी नजर रखते हैं।

नौसेना प्रमुख ने कहा कि हम जानते हैं कि यह एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है, जहां बड़ी मात्रा में व्यापार होता है। विभिन्न देशों के जहाजों की आवाजाही के बीच हमारा काम समुद्री क्षेत्र में भारत के हितों की रक्षा करना है। हिंद महासागर क्षेत्र में चीनी जासूसी जहाजों को देखे जाने के बाद नौसेना प्रमुख ने कहा कि भारतीय नौसेना उनकी गतिविधियों पर कड़ी नजर रख रही है। नौसेना प्रमुख ने कहा कि भरोसेमंद जवाबदेही बनाए रखना किसी भी सशस्त्र बल, विशेष रूप से नौसेना का काम है। इसे हासिल करने के लिए हमें बहुत कम समय में तैयार रहने की आवश्यकता है।

नौसेना को आत्मनिर्भर भारत पर स्पष्ट दिशा-निर्देश

एडमिरल आर हरि कुमार ने रूस-यूक्रेन युद्ध जैसी हाल की वैश्विक घटनाओं का हवाला देते हुए कहा कि भारत अपनी रक्षा जरूरतों के लिए दुनिया पर निर्भर नहीं रह सकता। उन्होंने कहा कि सरकार ने नौसेना को आत्मनिर्भर भारत पर बहुत स्पष्ट दिशा-निर्देश दिए हैं। शीर्ष नेतृत्व के लिए नौसेना की प्रतिबद्धताओं में से एक यह है कि हम 2047 तक एक आत्मनिर्भर नौसेना बन जाएंगे। उन्होंने आईएनएस विक्रांत के नौसेना बेड़े में शामिल होने को देश और नौसेना के इतिहास में ऐतिहासिक घटना करार दिया है। बहुत कम देश ऐसे हैं, जिनके पास विमानवाहक पोत बनाने की क्षमता है और हम उन चुनिंदा देशों में शामिल हैं।

नौसेना में पहले बैच में 3000 अग्निवीर शामिल

नौसेना अध्यक्ष ने बताया कि अग्निपथ स्कीम के तहत पहले बैच में 3000 अग्निवीर नौसेना में शामिल हुए हैं, जिसमें 341 महिलाएं हैं। अभी तक केवल सात से आठ ब्रांचों तक ही महिलाएं सीमित हैं लेकिन अब हम महिला अधिकारियों को सभी ब्रांचों में शामिल करने पर विचार कर रहे हैं। महिलाओं को जहाजों, एयरबेसों और विमानों पर तैनात किया जाएगा। उन्हें हर चीज के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा, उनके प्रशिक्षण में कोई अंतर नहीं आने वाला है। नौसेना अध्यक्ष ने कहा कि यह पहली बार है, जब महिलाओं को उनके पुरुष समकक्षों की तरह ही शामिल किया जा रहा है। महिलाओं और पुरुषों के चयन का तरीका एक समान है और वे समान परीक्षणों से गुजर रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.