National Wheels

2023 से शुरू हो जाएगा मस्जिद-ए-अयोध्या का निर्माण

2023 से शुरू हो जाएगा मस्जिद-ए-अयोध्या का निर्माण

– अगले हफ्ते एडीए भेजेगा शासन को लैंड यूज चेंज करने का प्रस्ताव

कुंवर समीर शाही

अयोध्या। रामनगरी में जहाँ श्रीराम मंदिर का निर्माण शुरू ही नही हुआ बल्कि 50 फीसदी काम भी पूरा हो गया। लेकिन विडंबना देखिए कि मस्जिद-ए-अयोध्या का निर्माण अभी तक शुरू ही नही हो पाया। लेकिन अब इंतजार खत्म होने वाला है। नए साल से मस्जिद का निर्माण शुरू हो जाएगा। इंडो इस्लामिक कल्चरल ट्रस्ट ने मस्जिद की डिजाइन नहीं पास किया था। निमार्ण कार्य शुरू नहीं होने का सबसे बड़ा कारण था। वह अब दूर हो जाएगा।

अगले हफ्ते अयोध्या विकास प्राधिकरण बोर्ड की बैठक होगी। जिसमें मस्जिद के ल‌िए दी गई भूम‌ि का लैंड यूज चेंज करने के लिए शासन को प्रस्ताव भेज दिया जाएगा।
इंडो इस्लामिक कल्चरल ट्रस्ट के सदस्य अरशद अफजाल ने बताया, “सभी पेपर जमा हो गए हैं। उम्मीद है कि दिसंबर 2022 तक मस्जिद की डिजाइन को अनुमति मिल जाएगी। इसके बाद जनवरी 2023 से मस्जिद का निर्माण शुरू हो जाएगा।”

अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विशाल सिंह ने बताया कि
सभी कानूनी औपचारिकताएं जल्द ही पूरी कर ली जाएंगी। मस्जिद के मानचित्र को अनुमति दी दी जाएगी। इसके लिए बोर्ड की बैठक बुलाई जाएगी।

एनओसी की वजह से मानचित्र को नहीं मिली थी अनुमति

शासन ने मस्जिद के लिए 5 एकड़ भूमि अयोध्या के धन्नीपुर गांव में दी थी। इसके बाद मई 2021 में इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ने मस्जिद के मानचित्र की अनुमति के लिए अप्लाई कर दिया था। एनओसी नहीं मिलने की वजह से अब तक इसको मंजूरी नहीं मिली। जुलाई 2022 में फाउंडेशन के चेयरमैन जफर फारुकी, सचिव अतहर हुसैन, स्थानीय ट्रस्टी अरशद अफजाल ने अयोध्या विकास प्राधिकरण के साथ बैठक की। इसके बाद विचार-विमर्श हुआ। अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विशाल सिंह ने भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, अग्निशमन, सिंचाई विभाग, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, जिला प्रशासन और नगर निगम को एनओसी दिए जाने को लेकर पत्र भी भेजा था।

मस्जिद के लिए हिंदू भी कर रहा सहयोग

मस्जिद के लिए हिंदू भी सहयोग कर रहा है। इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन के सदस्य अरशद अफजाल ने बताया, “लखनऊ के साथ-साथ अयोध्या सहित कई जगहों से मस्जिद निर्माण के लिए सहयोग मिला है। जिसमें कई हिंदुओं ने भी अपना योगदान दिया है। इनमें कई प्रोफेसर और बुद्धिजीवी वर्ग के लोग शामिल हैं।

अस्पताल, सामुदायिक भोजनालय और रिसर्च सेंटर भी बनेगा

इस भूमि पर 2,000 नमाजियों के लिए सभागार, 300 बेड का चैरिटेबल हॉस्पिटल, 1000 की क्षमता वाला शाकाहारी सामुदायिक भोजनालय और मौलवी अहमद उल्ला शाह के नाम से एक रिसर्च सेंटर का निर्माण होना है। इसके चारों तरफ छायादार वृक्ष लगाए जाएंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.