National Wheels

सांसद बृजभूषण सिंह की हनक को हरियाणा से चुनौती, यौन शोषण के आरोपों से हिला खेल जगत

सांसद बृजभूषण सिंह की हनक को हरियाणा से चुनौती, यौन शोषण के आरोपों से हिला खेल जगत

भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह की हनक और सत्ता के खिलाफ हरियाणा के पहलवान खुलेआम सड़क पर उतर आए हैं। अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी विनेश फोगाट ने अध्यक्ष व कैसरगंज सांसद पर यौन शोषण का आरोप लगाकर पूरे खेल जगत को हिला दिया है।

कॉमनवेल्थ गेम्स पदक विजेता विनेश ने मीडिया के सामने रोते हुए आरोप लगाया कि अध्यक्ष कई वर्षों से महिला पहलवानों का यौन शोषण कर रहे हैं। लखनऊ में राष्ट्रीय शिविर में भाग ले चुकी कई महिला पहलवानों का कोचों ने शोषण किया है। कुछ कोच ऐसे भी है जो पहलवानों से संपर्क करते हैं और फिर उन्हें बाद में डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष तक पहुंचाते हैं। फोगाट ने यह साफ किया कि मैंने इस तरह के शोषण का सामना नहीं किया, लेकिन इस धरने में बैठी कुछ महिला पहलवानों के साथ ऐसा हो चुका है।

दिल्ली के जंतर-मंतर पर ओलंपिक पदक विजेता बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक और एशियन गेम्स पदक विजेता व ओलंपियन विनेश फोगाट ने बुधवार को भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर गंभीर आरोप लगाते हुए धरना दिया। दिल्ली में धरना देकर पहलवानों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से हस्तक्षेप की मांग की है। वही खेल मंत्रालय ने इस मामले में wfi से 72 घंटे के अंदर जवाब देने को कहा है। माना जा रहा है कि इस मामले में खेल मंत्रालय कड़े कदम उठाने की तैयारी में है।

विनेश फोगाट ने कहा कि उन्होंने टोक्यो ओलंपिक के दौरान संघ से हुए विवाद की बात प्रधानमंत्री मोदी को बता दी थी। मैंने पीएम को wfi की तर्कहीन चयन नीतियों और कुछ प्रमुख पहलवानों को हो रही कठिनाइयों पर भी चर्चा की थी। मैं कम से कम 10-12 महिला पहलवानों को जानती हूं जिन्होंने मुझे wfi अध्यक्ष द्वारा हुए यौन शोषण के बारे में बताया है। उन्होंने मुझे अपनी कहानियां सुनाई। मैं अभी उनका नाम नहीं ले सकती लेकिन अगर हम प्रधानमंत्री और गृह मंत्री से मिलेंगे तो उन नामों को सामने लाऊंगी।

विनेश ने सवाल उठाया कि महिला पहलवानों का शिविर हमेशा लखनऊ में ही क्यों लगता है ? ऐसा इसलिए है क्योंकि ब्रजभूषण का घर लखनऊ में है और इस तरह की हरकतों में शामिल होना उनके लिए सुविधाजनक है।

धरने में शामिल बजरंग पूनिया ने कहा wfi मनमाने ढंग से चलाया जा रहा है। जब तक अध्यक्ष को हटाया नहीं जाता तब तक धरने पर बैठे खिलाड़ी किसी प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं लेंगे। हमारी लड़ाई के सरकार या खेल प्राधिकरण से नहीं है। यह कुश्ती को बचाने की लड़ाई है। धरने पर सरिता मोर, संगीता फोगाट, सत्यव्रत मलिक, जितेंद्र किन्ना, कॉमनवेल्थ गेम्स पदक विजेता सुमित मलिक सहित 30 पहलवान शामिल रहे।

गौरतलब है कि बृजभूषण शरण सिंह 2011 से wi-fi अध्यक्ष है वर्ष 2019 में लगातार तीसरी बार इस पद पर चुने गए थे कहा जा रहा है कि 2023 में होने वाले चुनाव में वह अपने पुत्र प्रतीक भूषण सिंह अध्यक्ष बनाना चाहते हैं।

मैं फांसी पर चढ़ने को तैयार हूं

Wfi अध्यक्ष व सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने कहा, “मेरे ऊपर लगे आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है। यौन उत्पीड़न का एक भी मामला साबित हुआ तो मैं फांसी पर चढ़ने को तैयार हूं। मेरे विरुद्ध इस साजिश के पीछे एक उद्योगपति का हाथ है। जान से मारने की धमकी मिलने पर विनेश ने पुलिस या मुझसे संपर्क क्यों नहीं किया? मामले की जांच करा ली जाए सच सामने आ जाएगा।”

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.