National Wheels

#समागम : तमिल प्रतिनिधि काशी में बाबा विश्वनाथ का दर्शन कर निहाल

#समागम : तमिल प्रतिनिधि काशी में बाबा विश्वनाथ का दर्शन कर निहाल

वाराणसी। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में चल रहे तमिल समागम कार्यक्रम के दूसरे दिन रविवार को तमिलनाडु से आए प्रतिनिधिमंडल ने नव्य और भव्य श्री काशी विश्वनाथ धाम को देखा। सभी ने धाम परिसर में ही प्रसाद भी ग्रहण किया। फिर सभी भगवान बुद्ध की प्रथम उपदेश स्थली सारनाथ रवाना हुए। शाम के समय सभी ने गंगा में नौकायन किया और दशाश्वमेध घाट की विश्वविख्यात गंगा आरती में शामिल हुए। इसके बाद प्रतिनिधियों की पहली खेप प्रयागराज और अयोध्या के लिए रवाना हो जाएगा।

केंद्रीय शिक्षा, कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने शनिवार की रात काशी-तमिल संगमम् में तमिलनाडु से आए छात्रों और अन्य सदस्यों से मुलाकात की। बीएचयू के हैदराबाद गेट के पास स्थित होटल युग में रह रहे तमिलनाडु से आए 120 छात्रों और सदस्यों को उन्होंने शाल भेंट की। इसके साथ ही सभी का हालचाल पूछ कर उनके लिए तैयार किए गए भोजन को भी केंद्रीय मंत्री ने चखा। कहा कि काशी को अपना ही शहर समझें और यहां की मेजबानी का आनंद लें।

तमिलनाडु से आए छात्रों ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री से सम्मानित होने के बाद कहा कि उन्हें यहां जीवन भर न भूलने वाला अनुभव मिला है। वहां यहां से अच्छी यादें लेकर जाएंगे और तमिलनाडु में लोगों को बताएंगे कि उत्तर और दक्षिण किस तरह से खान-पान और संस्कृति में एक हैं। अपने यहां के लोगों को काशी आने के लिए प्रेरित करेंगे और यहां के लोगों से उम्मीद करेंगे कि वह पहले की अपेक्षा और ज्यादा संख्या में उनके यहां आएंगे। काशी तमिल संगमम के दूसरे दिन काशी और तमिल के लोगों में खासा उत्साह नजर आ रहा था।

रविवार का दिन होने के नाते लोगों में जमकर उत्साह दिखा और लोग काशी के व्यंजन के साथ—साथ तमिल व्यंजन का लुत्फ उठाते भी नजर आए। पहली बार बनारस में आयोजित हो रहे इस तरह के आयोजन को लेकर काशीवासियों में जमकर उत्साह नजर भी आया। तमिलनाडु से आए प्रतिनिधिमंडल के अलावा बड़ी संख्या में काशी यात्रा पर आए तमिलनाडुवासियों के बीच इस कार्यक्रम को लेकर उत्सुकता रही।

कमच्छा से आए एक परिवार ने बताया कि काशी तमिल संगमम के बारे में जबसे सुना है तब से इस कार्यक्रम में आने की इच्छा थी। संयोगवश संगमम के पहले रविवार को ही आने का मौका मिल गया। उत्तर और दक्षिण की संस्कृति का अनूठा समावेश इस कार्यक्रम में देखने को मिल रहा है। ग्रांउड में बने सेल्फी सेंटर पर जहां लोग सेल्फी लेने में दिलचस्पी दिखा रहे थे वहीं दूसरी ओर वणक्कम काशी का संबोधन कर काशीवासी तमिलनाडु के लोगों का स्वागत भी करते नजर आ रहे थे। डीएवी कॉलेज से आए छात्रों के एक समूह ने बताया कि यहां आकर बहुत अच्छा लग रहा है। एक तरफ हमें तमिल की संस्कृति का बोध हो रहा है तो दूसरी तरफ हमें तमिलनाडु के लोगों से मिलकर वहां के बारे में जानने का अवसर मिल रहा है।

तमिल कलाकारों ने मन मोहा

सांस्कृतिक संध्या में तमिलनाडु से आए कलाकारों ने दर्शकों का मन मोह लिया। कार्यक्रम के दूसरे दिन आयोजित सांस्कृतिक संध्या में भरतनाट्यम, कत्थक नृत्य के अलावा तमिलनाडु की स्थानीय कलाओं का प्रदर्शन भी कलाकारों ने किया। काशीवासी तमिल कलाकारों के प्रदर्शन को देखकर काफी उत्साहित नजर आए। इस दौरान कई गणमान्य अतिथि मौजूद थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.