National Wheels

राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के विजेताओं से करेंगे बात करेंगे PM मोदी

राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के विजेताओं से करेंगे बात करेंगे PM मोदी

शिक्षक दिवस के अवसर पर पीएम मोदी 5 सितंबर, 2022 को शाम 4:30 बजे 7 लोक कल्याण मार्ग पर राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार, 2022 के विजेताओं से बातचीत करेंगे। राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार का उद्देश्य देश के बेहतरीन शिक्षकों के अद्वितीय योगदान को सेलिब्रेट करना और उनका सम्मान करना है, जिन्होंने अपनी प्रतिबद्धता और कड़ी मेहनत से न केवल स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार किया है बल्कि अपने छात्रों के जीवन को भी समृद्ध किया है।

देशभर से 45 शिक्षकों का चयन

राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार, प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत मेधावी शिक्षकों को सार्वजनिक मान्यता प्रदान करता है। इस पुरस्कार के लिए इस साल देश भर से 45 शिक्षकों का चयन, तीन चरण की एक कठोर और पारदर्शी ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से किया गया है।

क्यों मनाया जाता है शिक्षक दिवस ?

उल्लेखनीय है कि हर वर्ष 5 सितम्बर को भारत में डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। इनका जन्म दक्षिण भारत के तमिलनाडु के तिरुटन्नी में पांच सितम्बर 1888 को हुआ तथा इन्हें भारतीय दर्शन का इतना गहरा ज्ञान था कि इस विषय पर व्याख्यान देने के लिए दुनिया के कई देशों से इन्हें आमंत्रण मिलता रहता था। लोग इनके व्याख्यानों को बड़ी ही रुचि के साथ सुनते थे और भारतीय दर्शन के मर्म को समझते थे।

इनके आकर्षक व्यक्तित्व का सम्मान करने के लिए ब्रिटिश सरकार ने ”सर” की उपाधि प्रदान की। एक आदर्श शिक्षक के रूप में अपनी पहचान बनाने वाले स्वतंत्र भारत के द्वितीय राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने अपने जन्मदिन को ”शिक्षक दिवस” के रूप में मनाए जाने की घोषणा की, ताकि लोग शिक्षकों का सम्मान करें, उनके महत्त्व को समझें। आज भी देश में शिक्षा की क्रांति लाने में सबसे अहम भूमिका शिक्षकगणों की है।

आज लोग शिक्षा के महत्त्व को समझ रहे

आज लोग शिक्षा के महत्त्व को समझते हैं, अनपढ़ रहने में शर्म और संकोच महसूस करते हैं, पढ़ने में अपनी शान समझते हैं। गरीब से गरीब परिवार के लोग भी आज अपने बच्चों को पढ़ने के लिए विद्यालय भेजने लगे हैं। यह शिक्षा के क्षेत्र में एक जबरदस्त क्रांति है, जिसमें शिक्षकों की महत्त्वपूर्ण भूमिका रही है।

आज के समय में कैसे शिक्षकों की जरूरत ?

ऐसे में आज ऐसे शिक्षकों की जरूरत है, जो पाठ्यक्रम का शिक्षण देने के साथ जीवन को संवारने वाला शिक्षण भी अपने व्यक्तित्व से दे सकें। ऐसे ही जबरदस्त व्यक्तित्व के स्वामी थे डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन। वह एक ऐसे आदर्श शिक्षक थे, जिन्होंने ना केवल व्याख्यानों के माध्यम से भारतीय दर्शन का मर्म समझाया, बल्कि, अपने व्यक्तित्व के माध्यम से भी शिक्षण दिया। शिक्षा का वास्तविक उद्देश्य है व्यक्तित्व गढ़ना। यदि शिक्षा के माध्यम से केवल जीवन के आर्थिक उद्देश्य की पूर्ति होती है और व्यक्तित्व निर्माण का उद्देश्य अधूरा रह जाता है तो ऐसी शिक्षा अधूरी है, एकांकी है।

शिक्षा और चिकित्सा दो ऐसे कर्म, जिनसे सेवा का दायित्व होता है पूरा

शिक्षा एवं चिकित्सा दो ऐसे कर्म हैं, जिनके माध्यम से सेवा का दायित्व पूरा होता है। शिक्षा के माध्यम से व्यक्तित्व संवरता है और चिकित्सा के माध्यम से जीवन का संरक्षण होता है। शिक्षा अर्जन के द्वारा न केवल व्यक्तिगत जीवन में लाभ मिलता है, बल्कि इसके द्वारा दूसरों का जीवन भी लाभान्वित होता है। इसी कारण शिक्षण की महत्ता बहुत है, लेकिन आज के परिदृश्य में शिक्षा का सेवायुक्त भाव समाप्त दिखता है और व्यावसायिक महत्त्व अधिक दिखता है। विद्यालय शिक्षाशाला कम व्यवसायिक प्रतिष्ठान के रूप में दिखने लगा है।

शिक्षक शिक्षा का दान सेवा के भाव से करे

इसी कारण आज शिक्षा व्यक्ति के जीवन को आंतरिक दृष्टि से लाभान्वित नहीं कर पा रही, क्योंकि शिक्षा से जुड़ा हुआ सेवाभाव खत्म होने से व्यक्ति के अंदर की संवेदनाएं समाप्त हो रही हैं। इसी कारण है कि अब शिक्षक शिक्षा का दान सेवा के भाव से नहीं, बल्कि आर्थिक दृष्टि से लाभ कमाने के लिए करने लगे हैं। एक समय था जब देश आर्थिक दृष्टि से संपन्न नहीं था, फिर भी देश में एक-से-एक विचारवान प्रतिभाशाली व्यक्ति उभरकर आए थे।

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने अपनी गंभीर, हृदयस्पर्शी भावनाओं को अखबारों में व्यक्त किया, कविताओं में पिरोया, भाषण आदि के माध्यम से प्रस्तुत किया। उनकी अभिव्यक्तियां लोगों के दिलोदिमाग पर छा गईं, उनका व्यक्तित्व लोगों की आंखों में बस गया। यह सब हुआ ज्ञानार्जन और आत्ममंथन से, इसी कड़ी में जब डॉ. राधाकृष्णन सम्मिलित हुए तो देश-विदेशों में इस कदर छा गए कि उनके विचारों को सुनने के लिए भीड़ उमड़ने लगी।

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने एक शिक्षक होने का दायित्व किया पूरा

उन्होंने एक शिक्षक होने का अपना दायित्व पूरा किया, पूरी निष्ठा से गंभीर अध्ययन, मनन-चिंतन के पश्चात अपने विचारों को अभिव्यक्ति दी, अपनी प्रतिभा को तराशा और मिलने वाले अवसरों ने उन्हें देश में ही नहीं, विदेशों में भी प्रख्यात कर दिया। यह एक मिसाल है शिक्षकों और विद्यार्थियों के लिए कि वे अपने विषय की गहराई में जाएं, गंभीरता से किसी भी विषय को समझें और फिर उसे अभिव्यक्ति दें। शिक्षा और शिक्षण के वास्तविक महत्त्व को समझें, इसे जीवन में उतारें, इससे व्यक्तित्व संवारें।

भारत शिक्षा के विश्व गुरु रूप में होगा पुनर्स्थापित

जब वास्तव में सभी शिक्षक अपने शिक्षण के दायित्व को समझेंगे, गंभीरता से अपने इस कर्त्तव्य को निभाएंगे तो वह दिन दूर नहीं, जब भारत प्राचीन काल की तरह एक बार फिर जगतगुरु बनकर पूरे विश्व को शिक्षा देगा। इसी उद्देश्य की पूर्ति में शिक्षकों के सम्मान के लिए समर्पित शिक्षक दिवस केवल प्रतीक पर्व बनकर नहीं रह जाए, बल्कि यह शिक्षकों के आत्मचिंतन एवं आत्ममंथन का पर्व बने। लेकिन इसके लिए सिर्फ शिक्षकों को ही नहीं सोचना होगा बल्कि सरकार और समाज सभी इसके लिए गंभीरता पूर्वक कार्य करें तो एक न एक दिन सफलता अवश्य मिलेगी। आज पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत पूरे दुनिया को नया रास्ता दिखा रहा है तो सबके गहन चिंतन, मनन और अभ्यास से भारत शिक्षा के विश्व गुरु रूप में पुनर्स्थापित होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.