National Wheels

यूनियन बैंक ने टीबी मरीजों को लिया गोद

यूनियन बैंक ने टीबी मरीजों को लिया गोद

पोषाहार व नियमित दवा का सेवन करेगा टीबी पर वार : डॉ हेमंत कुमार सिंह

प्रयागराज : क्षय रोग उन्मूलन की दिशा में स्वास्थ्य विभाग के आह्वान पर क्षय रोगियों को गोद लेने की पहल रंग लाती दिख रही है। मंगलवार को चाका ब्लॉक के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में यूनियन बैंक ने बीस टीबी मरीजों को पोषाहार का वितरण किया व गोद लिया। यूनियन बैंक की यह शाखा गोद लिए गए टीबी मरीजों की मॉनिटरिंग करेगा व इनके पोषण व स्वास्थ्य संबंधी देखरेख का ख्याल रखेगा।

चाका के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डॉ हेमंत कुमार सिंह ने टीबी मरीजों को इलाज के बारे में समझाया व उनसे कहा कि पोषाहार व नियमित दवा का सेवन ही करेगा टीबी पर वार इसलिए मरीज दवा को बीच में न छोड़ें व मादक पदार्थ का सेवन न करें। उन्होने कहा कि शासन द्वारा प्रत्येक विभाग को टीबी मरीजों को गोद लिए जाने हेतु आदेशित किया गया है। इस समब्द्ध में आज चाका ब्लॉक में यूनियन बैंक की शाखा ने 20 टीबी मरीजों को गोद लिया है। टीबी मरीजों को दी गई पोषण किट में मूंगफली, चना, गुड़, सत्तू, गजक सहित कुछ सप्लीमेंट हैं, जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हैं।

पोषाहार वितरण कार्यक्रम में टीबी मरीजों को संतोष कुमार (क्षेत्र प्रमुख, यूनियन बैंक, प्रयागराज) ने पोषाहार वितरित किया। उन्होने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की यह पहल निश्चित तौर पर 2025 तक देश से टीबी को हराने में सफल होगी। यूनियन बैंक भविष्य में और भी टीबी मरीजों को गोद लेगा व गोद लिए गए टीबी मरीजों के पोषण का ख्याल रखेगा। हम अपनी नैतिक ज़िम्मेदारी आ पालन करेंगे व क्षय रोग उन्मूलन की दिशा में स्वास्थ्य विभाग के साथ कंधे से कंधा मिलाकर टीबी को हराने में सफल होंगे।

चाका ब्लॉक के मड़ौका ग्रामसभा निवासी व पोषण किट पाने वाले लाभार्थी मोहम्मद सफीक ने कहा कि ‘मैं दिहाड़ी मजदूरी करता हूँ। मेरी पत्नी व मेरे दो बच्चे मेरी सेहत को लेकर बहुत चिंतित रहते हैं पर आज जब मैं पोषण किट लेकर घर पहुंचा मेरे परिवार के सभी सदस्यों के चेहरे पर खुशी झलक उठी। पोषण किट पाकर मुझे भी बहुत खुशी हो रही है। मैं दवा का नियमित सेवन कर रहा हूँ अब पोषण किट में मिली खाद्य सामग्री का भी प्रयोग करूंगा।

पब्लिक प्राइवेट समन्वयक आशीष सिंह ने बताया कि जनपद में कुल 3400 टीबी मरीजों को गोद लिया जाना है। इनका नि:शुल्क उपचार होने के साथ-साथ इन्हें पोषण के लिए 500 रुपये का पोषण भत्ता हर माह इनके खाते में भेजा जा रहा है। साथ ही विभाग टीबी उन्मूलन के लक्ष्य को जल्द से जल्द प्राप्त करने के लिए हर टीबी मरीज को प्रत्येक माह पौष्टिक आहार (पोषाहार) वितरित कर रहा है। सैकड़ों टीबी मरीजों को कई विभाग व निजी संस्थाओं ने गोद लिया है। स्वास्थ्य विभाग के आह्वान पर क्षय रोगियों को गोद लेने के लिए अन्य विभाग व स्वयंसेवी संस्थाएं भी आगे आएँ। आपसी समन्वय व सहयोग से हम सभी को मिलकर टीबी मुक्त भारत बनाना है।

पोषाहार वितरण कार्यक्रम में एसटीएस दिनेश, एसएम अवधेश व यूनियन बैंक एवं स्वस्थ्य विभाग के अधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.