National Wheels

#बेसिक_शिक्षा : कंपोजिट UPS बिरवल में शिकायतें हजार, कुछ तो करो ‘सरकार’

#बेसिक_शिक्षा : कंपोजिट UPS बिरवल में शिकायतें हजार, कुछ तो करो ‘सरकार’

प्रयागराज  : बेहतर एजूकेशन और सामंजस्य के लिए बनाए गए कंपोजिट विद्यालय बवाल-ए-जान बन गए हैं। नया बखेड़ा जसरा विकास खंड के कंपोजिट यूपीएस बिरवल का सामने आया है। शिकायत है कि वरिष्ठ शिक्षक को दरकिनार कर कनिष्ठ शिक्षक को प्रभारी प्रधानाध्यापक बना दिया गया है। शिकायत की तपिश से जसरा बीईओ भी झुलस रहे हैं। उन पर आरोप है कि प्रभारी प्रधानाध्यापक के साथ मिलीभगत कर कंपोजिट धनराशि का सवा दो लाख रुपए का गोलमाल कर लिया गया है। जांच में दो बीईओ ने शिकायतकर्ता पर फर्जी और मनगढंत शिकायत का आरोप मढ़ा तो शिकायतकर्ता ने पूरी जांच प्रक्रिया पर ही सवाल खड़ा कर दिया है। खुद पर पूरी आंच आती देख अब बीईओ भी पूरे मामले से यह कहकर पल्ला झाड़ रहे हैं कि वह जिला बेसिक शिक्षाधिकारी के अधीन हैं, जैसा आदेश मिलेगा, करेंगे।

बिरवल निवासी धनंजय त्रिपाठी ने बीएसए, डीएम समेत मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत-दर-शिकायत की है। उनकी शिकायत है कि कंपोजिट यूपीएस बिरवल में सहायक अध्यापक कविता कुशवाहा जबरदस्ती करके इंचार्ज बन गई है, जबकि वरिष्ठ शिक्षिका रईस फातमा विद्यालय तो आती हैं लेकिन इंचार्ज नहीं बन पाई। उनका दावा है कि कंपोजिट मद के 2.25 लाख रुपये का बीईओ के साथ मिलीभगत कर प्रभारी ने गोलमाल कर लिया है।

शुरुआती जांच अधिकारी रहे जसरा खंड शिक्षा अधिकारी अखिलेश वर्मा ने रिपोर्ट दी कि वरिष्ठ शिक्षिका रईस फातिमा के अस्वस्थ होने के क्रम में पूर्व बीएसए ने बबीता कुशवाहा को इंचार्ज बनाया है। रईस फातिमा इंचार्ज नहीं बनना चाहती हैं। शिकायतकर्ता फर्जी शिकायतें करते हैं। पेशेवर हैं। विद्यालय विकास मद हेतु मिली धनराशि से विकास कराया गया है। उन्होंने शिकायतकर्ता पर कमीशन मांगने का आरोप भी लगाया।

शिकायतकर्ता धनंजय त्रिपाठी ने बीईओ की जांच पर यह आरोप लगाते हुए सवाल खड़ा कर दिया कि गोलमाल के आरोपी बीईओ ने अपनी ही जांच कैसे कर ली ? पूरे मामले में उनकी मिलीभगत है। यह जांच स्वीकार योग्य नहीं है। धनंजय का कहना है कि बीईओ के पास ऐसा कोई प्रमाण नहीं है कि मैं कमीशन मांगता हूं और शिकायत करने का आदी हूं। मैं भी हिंदू हूं, बीईओ और प्रभारी प्रधानाध्यापिका भी हिंदू हैं। किसी भी मंदिर में आमने सामने खड़े होकर ईश्वर की कसम खा लें। वरिष्ठ शिक्षिका को बिना किसी मेडिकल जांच गलत तरीके से बीमार बताकर गलतियों पर पर्दा डाला जा रहा है। धनंजय ने डीएम प्रयागराज से की गई शिकायत में बीईओ पर झूठी आख्या प्रेषित करने का भी आरोप लगाया है।

उधर, 3 अक्टूबर को जिलाधिकारी को भेजी रिपोर्ट में बीएसए प्रवीण तिवारी ने लिखा है कि शिकायतकर्ता की जांच की गई तो पाया गया कि रईस फातिमा वास्तविक रूप से ट्यूमर से पीड़ित हैं तथा उनके अनुरोध पर ही बबीता कुशवाहा को चार्ज दिया गया है। विद्यालय का संचालन सुचारु रुप से हो रहा है जो भी शिकायत की गई है निराधार व असत्य है। यह बात उन्होंने खंड शिक्षा अधिकारी शंकरगढ़ की रिपोर्ट के आधार पर लिखा है।

धनंजय त्रिपाठी का कहना है कि जसरा और शंकरगढ़ के बीओई की रिपोर्ट मनमानी,  एकतरफा और मिलीभगत वाली है। उनका दावा है कि विद्यालय में समुचित टॉयलेट नहीं है। पीने के पानी की व्यवस्था ठीक नहीं है। दो कक्षों को छोड़ किसी भी कमरों में पंखा नहीं है। उपलब्ध दोनों पंखे भी क्षतिग्रस्त और बेकार हैं। रंगाई- पुताई नहीं हुई है। कक्षा कक्ष की दशा बेहद खराब है। इससे यह साबित होता है कि कंपोजिट धनराशि का गोलमाल किया गया है। विभागीय अफसरों की जांच पर भरोसा नहीं है। पूरे मामले की जांच एसडीएम स्तर के अधिकारी से कराई जाए।

बीईओ अखिलेश वर्मा ने “नेशनल व्हील्स” से बातचीत में दावा किया कि शिकायतकर्ता की शिकायतें मनमानी और झूठी हैं। कनिष्ठ शिक्षिका को उन्होंने प्रभारी नहीं बनाया है। उनके पूर्व अधिकारी के कार्यकाल में यह बदलाव हुआ था। बेसिक शिक्षा अधिकारी जैसा भी निर्देश देंगे, वह उसका पालन करेंगे। यदि बीएसए कहेंगे तो वरिष्ठ शिक्षिका को तत्काल प्रभारी प्रधानाध्यापक का चार्ज दिलाया जाएगा।

Related Articles

3 Comments

Avarage Rating:
  • 0 / 10
  • Jyoti , October 18, 2022 @ 7:57 am

    Ups birwal composite me सबसे अच्छा काम हो रहा है
    पर शिकायतकर्ता पैसे के लिए नयी इनचार्ज पर दबाव बना रहा था जिसमें नाकामयाब होने पर शिकायत करने लगा
    पूर्व में भी हेड ma’am के ऊपर दबाव बना कर paise वसूल किया हैं
    स्कूल में खुद arajaktavt द्वारा नुकसान पहुंचाया जा रहा है
    जिसकी शिकायत पूर्व हेड ने थाना ghoorpur में की थी
    नयी इनचार्ज ने भी थाने पर complain की है पर कोई सुनवाई नहीं हुई

  • Babita kushwaha , October 18, 2022 @ 8:34 am

    Pankhe jo tode gaye, running water ko bar bar nuksaan pahuchaya gaya aur anay jo vidhyalay me nuksaan kiya ye sab nuksaan shikayaykarta ne hi karaya hai chuki inki patni sudha tripathi aganwadi karkatri hai isliye shikayatkarta baar baar vidhaylay aata jata rahta hai

    Dhan vasooli na kr paane k karan hi baar baar shikayat kr raha hai
    Ye ek pesevar hai jo purv head master per bhi shikayat daal chuka hai

    Mujhe babita kushwaha ko badnaam krne k liye school time k baad shikayatkarta sthaniy hone ka fyada utate hue school ko lagatar nuksaan pahucha raha hai

  • Jyoti , October 18, 2022 @ 9:51 am

    लेखक भी एक तरफा सुन कर लिख रहा हैं
    Jhooti पत्रिकारिता पर शर्म आनी
    चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published.