National Wheels

बेसिक और जूनियर हाईस्कूलों के शिक्षकों की पदोन्नति की बनी संभावना, MDM से प्रधानों का हस्तक्षेप होगा खत्म ?

बेसिक और जूनियर हाईस्कूलों के शिक्षकों की पदोन्नति की बनी संभावना, MDM से प्रधानों का हस्तक्षेप होगा खत्म ?

लखनऊ  : प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षकों की पदोन्नति का रास्ता जल्द ही खुलने की संभावना है। साथ ही मिड-डे-मील से प्रधान का हस्तक्षेप खत्म कर एसएमसी अध्यक्ष को जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। इसका संकेत महानदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद ने उत्तर प्रदेशीय जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ के पदाधिकारियों से बातचीत में दिया है।

उत्तर प्रदेशीय जूनियर हाईस्कूल (पूर्व माo) शिक्षक संघ, उत्तर प्रदेश के प्रांतीय अध्यक्ष सत्य प्रकाश मिश्र के नेतृत्व में गए प्रतिनिधि मंडल ने महानिदेशक स्कूल शिक्षा उत्तर प्रदेश विजय किरन आनंद, शिक्षा निदेशक बेसिक उत्तर प्रदेश शुभा सिंह एवं सचिव बेसिक शिक्षा परिषद, उत्तर प्रदेश प्रताप सिंह बघेल से शिष्टाचार भेंटकर शिक्षकों की वर्तमान समस्याओं तथा पूर्व में दिए गए मांगपत्र पर निम्नवत गहन विचार विमर्श किया गया। –

प्रांतीय महामंत्री अरुणेंद्र कुमार वर्मा ने कहा कि सभी अधिकारियों से संगठन की प्राथमिकता के तहत 01अप्रैल 2004 के बाद नियुक्त सभी शिक्षकों/कर्मचारियों हेतु पुरानी पेंशन बहाली की मांग की गई। यह भी अवगत कराया गया कि देश के कई राज्यों में पुरानी पेंशन बहाल की जा चुकी है। जिस पर अधिकारियों द्वारा शासन के पत्रों को प्रस्तुत कर अपना पक्ष रखा गया, जिसे अध्यक्ष सत्य प्रकाश मिश्र ने सिरे से खारिज करते हुए कहा कि पुरानी पेंशन बहाली के अतिरिक्त कुछ भी स्वीकार नही॔ है।

वित्त नियंत्रक द्वारा जारी आदेश पर घोर आपत्ति दर्ज कराते हुए संगठन ने NPS/प्रान नम्बर आवंटन के नाम पर शिक्षकों का वेतन रोके जाने के आदेश को अव्यवहारिक बताया।जिस पर महानिदेशक महोदय,निदेशक महोदया एवं सचिव परिषद द्वारा प्रतिनिधि मण्डल को आश्वस्त किया गया,कि किसी भी शिक्षक का वेतन नही रोका जाएगा।

प्राथमिक विद्यालयों के सहायक अध्यापकों की शीघ्र पदोन्नति सम्भव एवं जूनियर हाई स्कूल के प्रधानाध्यापक पद पर पदोन्नति हेतु प्रकरण विधिक राय के लिए शासन में विचाराधीन है। संगठन द्वारा शीघ्र पदोन्नति की मांग पर महानिदेशक एवं सचिव ने बताया कि अति शीघ्र उक्त प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी।

जनपदीय स्थानान्तरण घोषित नीति के अनुसार होंगे।आकांक्षी जनपदों से स्थानांतरण तथा अंतर्जनपदीय स्थानान्तरण पर मंथन जारी है।

मध्यान्ह भोजन खातों के संचालन हेतु ग्राम प्रधान के स्थान पर SMC अध्यक्ष को खाता धारक बनाते हुए एमडीएम बनवाने की जिम्मेदारी शिक्षकों को सौंपे जाने की संगठन की मांग पर महानिदेशक तथा सचिव द्वारा सहमति व्यक्त की गई,शीघ्र आदेश जारी होने का दावा किया गया है।

टाइम एंड मोशन स्टडी के अंतर्गत शिक्षण कार्य के उपरांत शिक्षकों के विद्यालय में न्यूनतम 30 मिनट रुकने की अनिवार्यता तथा विद्यालय समय बाद संकुल बैठक एवं अन्य बैठकों के आयोजन पर संगठन द्वारा घोर आपत्ति दर्ज कराई गई। संगठन द्वारा कहा गया कि उपरोक्त निर्णय से शिक्षिकाओं एवं महिला कर्मचारियों की सुरक्षा को गंभीर खतरा उत्पन्न हो सकता है। अतः उपरोक्त निर्णय को वापस लिया जाए, अन्यथा  समस्त उत्तर दायित्व विभाग का होगा।

प्रतिनिधि मंडल ने सचिव से जयंतियों को परिषदीय अवकाश तालिका से हटाकर कार्यदिवस के रूप में अंकित किए जाने की मांग की । संगठन द्वारा तर्क प्रस्तुत करते हुए कहा गया कि जयंतियों में छात्र एवं शिक्षकों की उपस्थिति रहती है। अतः ऐसी जयंतियों को कार्यदिवस की श्रेणी में रखा जाए।

गैर विभागीय कार्यों के लिए शिक्षकों पर हो रही कार्यवाही पर प्रतिनिधि मंडल ने आपत्ति दर्ज कराई है। प्रतिनिधि मंडल द्वारा शिक्षकों को प्रतिकर अवकाश दिए जाने की मांग की गई।

संगठन द्वारा उपरोक्त सभी समस्याओं/मांगों के सम्यक समाधान करने की मांग की गई। प्रतिनिधि मण्डल में प्रांतीय महामंत्री अरुणेंद्र कुमार वर्मा, प्रांतीय सदस्य सुरेश चंद्र मिश्र, प्रांतीय सदस्य राजेश कुमार, मंडल महामंत्री लखनऊ मंसूर आलम, जिलाध्यक्ष लखनऊ सुरेश जायसवाल, जिला उपाध्यक्ष बाराबंकी अरविन्द कुमार, जिला संयुक्त मंत्री बाराबंकी हेमन्त यादव,अध्यक्ष त्रिवेदीगंज आदित्य प्रताप सिंह, कोषाध्यक्ष आशीष सिंह आदि पदाधिकारी मौजूद रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.