National Wheels

बनारसी स्किल ट्रेनिंग से विश्वभर में मिलेंगे रोजगार के अवसर

बनारसी स्किल ट्रेनिंग से विश्वभर में मिलेंगे रोजगार के अवसर

कोरोना ने दुनियाभर को न्यू नॉर्मल में रहना सिखाया है। महामारी की वजह से वैश्विक स्तर पर काफी कुछ बदलाव भी आया है। ऐसे में देश के युवाओं को न्यू नॉर्मल और नए कौशल से अवगत करा कर उनके लिए मौके तलाशने के लिए कौशल विकास उद्यमशीलता मंत्रालय द्वारा कुशल भारत मिशन चलाया जा रहा है।
हाल ही में वाराणसी में स्किल इंडिया इंटरनेशनल सेंटर विकसित करने के लिए एनएसडीसी इंटरनेशनल (एनएसडीसीआई) तथा डीपी वर्ल्ड की भारतीय इकाई हिंदुस्तान पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के बीच समझौता ज्ञापन का आदान-प्रदान किया गया। इस समझौता ज्ञापन का उद्देश्य विदेशों में लॉजिस्टिक्स, बंदरगाह संचालन तथा संबंधित क्षेत्रों में रोजगार के अवसरों के लिए भारतीय युवाओं को कौशल प्रदान करना है। वाराणसी में स्किल इंडिया इंटरनेशनल सेंटर अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुसार विश्व बाजार के लिए उम्मीदवारों को तैयार करने के उद्देश्य से कौशल प्रशिक्षण देगा।

क्या है एनएसडीसी इंटरनेशनल लिमिटेड
एनएसडीसी इंटरनेशनल लिमिटेड भारत को विश्व की कौशल राजधानी बनाने के लिए स्किल इंडिया इंटरनेशनल मिशन को प्रेरित करने वाली राष्ट्रीय कौशल विकास निगम की सहायक प्रतिष्ठान है। इसका विजन कौशल संपन्न तथा प्रमाणित कार्यबल के स्रोत के लिए पसंदीदा सहयोग देश के रूप में भारत को बदलना है। इसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय रूप से मानक गुणवत्ता संपन्न स्किल इकोसिस्टम बनाना और योग्यता संपन्न प्रतिभा के लिए वैश्विक सप्लायर के रूप में अपनी स्थिति मजबूत करना है। यह प्रतिष्ठान देश में रहने वाले भारतीयों के लिए वैश्विक रोजगार के अवसरों तथा विदेश में रहने वाले भारतीयों के लिए वैश्विक करियर मोबिलिटी की पेशकश करता है।

अंतरराष्ट्रीय कौशल केंद्र की स्थापना
दरअसल, कुशल भारत मिशन के अंतर्गत कौशल विकास उद्यमशीलता मंत्रालय द्वारा भारत के जिलों के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी भारत अंतरराष्ट्रीय कौशल केंद्र स्थापित किए गए हैं। इनका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप कौशल प्रशिक्षण देना और प्रमाणित करना है। अलग-अलग देशों में जॉब के लिए युवाओं को तैयार कर भेजने का कार्य प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना तथा प्रवासी कौशल विकास योजना द्वारा किया जा रहा है। यानि इसके जरिए विदेशों में नौकरी के अवसर भी बढ़ेंगे।

अंतरराष्ट्रीय कौशल केंद्र की खासियत
-अंतरराष्ट्रीय कौशल केंद्र देश के युवाओं को रोजगार अवसर प्रदान करने के साथ-साथ कौशल केंद्र उच्च गुणवत्ता और कौशल विकास का समुचित प्रशिक्षण भी देते हैं। यह योजना अल्पावधि प्रशिक्षण इकोसिस्टम को एक स्थाई संस्थागत मॉडल में बदलने की कल्पना करता है।
-आईआईएससी के पास कैरियर मार्गदर्शन तथा परामर्श केंद्र हैं, जो अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षण तथा रोजगार और विदेशी रोजगार सहायता की सुविधा प्रदान करने वाले संसाधन केंद्रों के रूप में कार्य करते हैं।
-नई नीति के अनुसार आईआईएससी से केवल उम्मीदवारों में कमी पाए जाने पर कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने की उम्मीद की जाती है।
-कौशल केंद्र स्मार्ट क्लासरूम दृश्य श्रव्य शिक्षण उपकरणों के साथ साथ समर्पित परामर्श और नियोजन भी प्रदान करता है।
-इन केंद्रों में कौशल भारत मिशन के अंतर्गत कम पढ़े लिखे या फिर स्कूल बीच में छोड़ने वाले युवाओं को अवसर प्रदान करने के लिए भी सरकार कार्यरत है।
-आईआईएससी कार्यक्रम के भाग के तौर पर अंतर्राष्ट्रीय मानकों पर कौशल विकास तथा पूर्व प्रस्थान उन्मुखीकरण प्रशिक्षण (पीडीओटी), दोनों प्रशिक्षण उम्मीदवारों को दिए जाते हैं।

अंतरराष्ट्रीय कौशल केंद्र में मिलेगा विदेशी भाषा का प्रशिक्षण
स्किल इंडिया इंटरनेशनल सेंटरों का उद्देश्य भारतीय युवाओं को उच्च गुणवत्ता संपन्न प्रशिक्षण प्रदान करना है। केंद्र प्रशिक्षण सुविधा आयोजित करेंगे, संयुक्त अरब अमीरात, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया तथा अन्य जीसीसी क्षेत्रों में अंतरराष्ट्रीय नियोक्ताओं की मांग के अनुसार प्रशिक्षण देंगे। स्किल इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के पास सहयोगी संगठनों और विदेशी नियोक्ताओं का व्यापक नेटवर्क होगा ताकि दूसरे देशों में कौशल संपन्न तथा प्रमाणिक कार्यबल की सप्लाई में सहायता दी जा सके। ये सहयोग संगठन विदेशी बाजारों से मांग एकत्रित करने के लिए एनएसडीसीआई के साथ कार्य करेंगे। ये केंद्र मोबिलाइजेशन, काउंसिलिंग, कौशल प्रशिक्षण, प्रस्थान पूर्व ओरिएंटेशन, विदेशी भाषा प्रशिक्षण, प्लेसमेंट तथा आव्रजन और प्लेसमेंट के बाद सहयोग जैसी सेवाएं देंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.