National Wheels

दारागंज में उपेक्षित है भीष्म पितामह की लेटी प्रतिमा, जानिए किसने की स्थापना

दारागंज में उपेक्षित है भीष्म पितामह की लेटी प्रतिमा, जानिए किसने की स्थापना

प्रयागराज का एक और विशिष्ट आकर्षण है, यहाँ स्थापित भीष्म पितामह प्रतिमा-स्थल। नगर के ऐतिहासिक दारागंज क्षेत्र में महिमा-मण्डित और अपने ढंग के अनूठे श्रीनागवासुकि मन्दिर-प्रांगण के समक्ष दर्शन होते हैं भीष्मपितामह जी की वृहद प्रतिमा के । 12 फीट लम्बी यह ठोस पाषाण-प्रतिमा महाभारत की कथा के अनुसार शर-शैय्या के आधार पर निर्मित है । इसकी स्थापना किन्हीं भट्ट जी के द्वारा 1962 में कराया गया था, जिसका उल्लेख प्रतिमा-स्थल के प्रवेश-द्वार पर लगे शिलालेख में किया गया है ।

भीष्मपितामह जी की ऐसी विशाल प्रतिमा शायद ही कहीं और देखने को मिलती हो । प्रचार-प्रसार एवं विकास के अभाव में अभी भी यह एक प्रकार से उपेक्षित-सा स्थान है ।

‘प्रयाग-गौरव’ पं० रमादत्त शुक्ल ने इसके प्रचार-प्रसार के लिए अभियान चलाया । अपने पूज्य पिताश्री द्वारा प्रतिपादित पितृ-पक्ष-पूजन की संक्षिप्त परम्परा को पुस्तकरूप में प्रकाशित कराकर उसका श्रद्धालुजन में मुक्तहस्त निःशुल्क वितरण कराने का कार्य किया, ताकि हिन्दू समाज अपनी अनूठी पितृ-स्मरण-परम्परा के प्रति जुड़े।

यही नहीं उन्होंने पितृ-पक्ष पर समर्पण के पर्याय भीष्म पितामह जी के स्मरण-वन्दन के लिए उत्प्रेरित करने के लिए भी योजनाबद्ध कार्य किया । ज्ञातव्य है कि पितृ-पक्ष पर तर्पण-प्रक्रिया के अन्तर्गत प्रत्येक हिन्दु के लिए अपने पूर्वजों के साथ-साथ भीष्मपितामह महाराज के लिए भी तर्पण का विधान हमारे दूरदृष्टा ऋषि-मुनियों द्वारा निर्धारित किया गया है, जो इस प्रकार है-
ऊँ वैयाघ्र-पद-गोत्राय, सांकृति-प्रवराय च ।
अपुत्राय ददाम्येतद् , सलिलं भीष्म-वर्मणे ।।

शुक्लजी ने प्रयागराज के दारागंज में प्राचीन श्रीनागवासुकि मन्दिर के सामने अवस्थित गंगा-पुत्र श्रीभीष्म-पितामह महाराज की विशाल प्रतिमा की ओर भी अपने बौद्धिक अभियान के माध्यम से नगरवासियों का ध्यान आकर्षित किया। अपने गोलोकवास के पहले ही उन्होंने इस प्रतिमा-स्थल पर पितृ-पक्ष के अवसर पर श्रद्धा-सुमन-अर्पण परम्परा की भी शुरुआत की, जो उनके भौतिक अस्तित्व के बाद आज भी प्रवर्तित हो रही है।

(लेखक व्रतशील शर्मा प्रयागराज के वरिष्ठ नागरिक और इतिहास के जानकार हैं। यदि आपकी जानकारी में भी ऐसा कोई ऐतिहासिक स्थल या कोई अन्य मुद्दा है तो 9140356827 नंबर पर WhatsApp कर सकते हैं।)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.