National Wheels

थॉमस और उबेर कप के बैडमिंटन दल से मिले पीएम, कहा-खेलना भी है खिलना भी

थॉमस और उबेर कप के बैडमिंटन दल से मिले पीएम, कहा-खेलना भी है खिलना भी

देश की युवा ब्रिगेड जिस तरह से खेलों में अपना प्रदर्शन दिखा रही है, उसने भारत को एक अलग पहचान दी है। हाल ही में ब्राजील में आयोजित डेफलंपिक्स में भारतीय दल ने 8 स्वर्ण पदक सहित कुल 16 पदक जीतने वाले खिलाड़ियों के साथ पीएम मोदी ने अपने घर मुलाकात की। इसके बाद रविवार को थॉमस और उबेर कप के भारतीय बैडमिंटन दल से अपने आवास पर मुलाकात कर उनका हौसला बढ़ाया। खिलाड़ियों ने इस दौरान पीएम मोदी के साथ खेल के विभिन्न पहलुओं के बारे में अपने अनुभव साझा किये।

देश की शान को बढ़ाया

पीएम मोदी ने थॉमस और उबेर कप के भारतीय बैडमिंटन दल को बधाई देते हुए कहा कि भारत को बैडमिंटन खिलाड़ियों की उपलब्धियों पर गर्व है। पूरे देश की तरफ से आपको बधाई। आप लोगों ने इतिहास रच दिया है। यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है। उन्होंने कहा कि आप देश की भावी पीढ़ी को प्रेरित कर रहे हैं। आपने देश की शान को बढ़ाया है। अब हमें रुकना नहीं है। अभी और भी आगे जाना है और भी मेडल लाने हैं।
उन्होंने कहा कि थॉमस कप की जीत ने देश का गौरव बढ़ाया है। दशकों बाद भारत ने यह उपलब्धि हासिल की है। सफलता की बुलंदी को छूना प्रत्येक भारतीय को गर्व से भर देता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज देश में खेल को लेकर पुरानी धारणाएं बदल रही हैं।

खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए उन्होंने टीम से कहा कि वे आने वाले समय में और भी कई पदक जीतेंगे। बहुत कुछ खेलना है और खिलना है (खेलना भी है खिलना भी है) और देश को खेल की दुनिया में ले जाना है। “अब भारत पीछे नहीं रह सकता। आपकी जीत पीढ़ियों को खेलों के लिए प्रेरित कर रही है”।

मेडलिस्ट और नॉन-मेडलिस्ट के बीच भेदभाव नहीं करते

वहीं पीएम मोदी से बातचीत के दौरान 14 साल की शटलर उन्नति हुड्डा ने कहा कि जो चीज उसे सबसे ज्यादा प्रेरित करती है, वह यह है कि आप कभी भी मेडलिस्ट और नॉन-मेडलिस्ट के बीच भेदभाव नहीं करते हैं। मैंने इस टूर्नामेंट में काफी कुछ सीखा है। अगली बार महिला टीम को भी जीत दर्ज करनी होगी। पीएम ने उनसे कहा कि उनका दृढ़ विश्वास है कि उन्नति चमकेगी जैसा कि उनके नाम से संकेत मिलता है। उसने उससे कहा कि उसे अभी लंबा रास्ता तय करना है और उसे जीत को कभी भी आत्मसंतुष्ट महसूस नहीं करने देना चाहिए।

73 साल बाद थॉमस कप जीता

पीएम मोदी के साथ बातचीत के दौरान बैडमिंटन खिलाड़ी एचएस प्रणय ने कहा कि यह हमारे लिए खुशी का पल है, क्योंकि हमने 73 साल बाद थॉमस कप जीता। क्वार्टर फाइनल के दौरान दबाव था क्योंकि हम जानते थे कि अगर हम हार गए तो हमें पदक नहीं मिलेगा। हम विभिन्न चरणों में जीतने के लिए दृढ़ थे। एचएस प्रणय ने कहा कि यह और भी गर्व का क्षण है क्योंकि टीम भारत की आजादी के 75वें वर्ष में प्रतिष्ठित टूर्नामेंट जीती है। उन्होंने कहा कि क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल में काफी दबाव था और उन्हें खुशी है कि टीम के समर्थन के कारण इसे दूर किया जा सका। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि जीत के लिए उनका रवैया उनकी सबसे बड़ी ताकत है।

गर्व है कि हमें पीएम का समर्थन प्राप्त है

पीएम ने टीम के कप्तान किदांबी श्रीकांत से उनकी नेतृत्व शैली और चुनौतियों के बारे में पूछा। श्रीकांत ने बताया कि व्यक्तिगत रूप से हर कोई शानदार प्रदर्शन कर रहा था और एक टीम के रूप में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना था। पीएम ने कहा, “पूरे देश की ओर से मैं आपको और आपकी पूरी टीम को बधाई देता हूं कि दशकों बाद भारतीय ध्वज को मजबूती से फहराया गया है। यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है… जबरदस्त दबाव में नर्वस और टीम को एक साथ रखना एक ऐसी चीज है जिसे मैं अच्छी तरह समझ सकता हूं। मैंने आपको फोन पर बधाई दी थी लेकिन अब मैं व्यक्तिगत रूप से आपकी तारीफ करने का आनंद महसूस कर रहा हूं।
थॉमस कप चैंपियन टीम के कप्तान किदांबी श्रीकांत ने कहा कि हमारे एथलीटों को यह कहते हुए हमेशा गर्व होगा कि हमें अपने प्रधानमंत्री का समर्थन प्राप्त है और यह अतुलनीय है। जिस तरह से उन्होंने हमारे मैच के ठीक बाद हमसे बात की, उससे मैं बहुत खुश हूं। यह सभी खिलाड़ियों को अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करेगा।

सपना आपने पूरा किया

अंत में प्रधानमंत्री ने कहा कि इस टीम ने थॉमस कप जीतकर देश में जबरदस्त ऊर्जा का संचार किया है। सात दशकों का लंबा इंतजार आखिरकार खत्म हो गया। ‘जो कोई भी बैडमिंटन को समझता है, उसने इसके बारे में सपना देखा होगा, वो सपना आपने पूरा किया है’ “इस तरह की सफलताएं देश के पूरे खेल पारिस्थितिकी तंत्र में बड़ी ऊर्जा और आत्मविश्वास का संचार करती हैं।

इस बार नहीं तो अगली बार जरूर जीतेंगे

वहीं उबेर कप का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि हम जीत का इंतजार करते हैं, तो उसके लिए भी इंतजाम करेंगे। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि वर्तमान टीम के गुणवत्ता वाले एथलीटों को जल्द ही बेहतर परिणाम मिलेंगे। “हमारी महिला टीम ने अपना समय और फिर से अपनी काबिलियत दिखाई है। बस समय की बात है, इस बार नहीं तो अगली बार हम जरूर जीतेंगे।

न्यू इंडिया का मिजाज है

आजादी के 75वें वर्ष में ये जीत और सफलता के शिखर पर पहुंचना हर भारतीय को बड़े गर्व से भर देता है। उन्होंने कहा ‘मैं यह कर सकता हूं’ न्यू इंडिया का मिजाज है। उन्होंने कहा कि प्रतियोगिता की चिंता करने से ज्यादा अपने प्रदर्शन पर ध्यान देना जरूरी है। उन्होंने कहा कि अब उम्मीद का दबाव बढ़ेगा, जो ठीक है और उन्हें देश की उम्मीदों के दबाव में नहीं झुकना चाहिए. “हमें दबाव को ऊर्जा में बदलने की जरूरत है। हमें इसे प्रोत्साहन के रूप में लेना चाहिए”।

पीएम मोदी ने कहा पिछले 7-8 सालों में हमारे खिलाड़ियों ने नए रिकॉर्ड बनाए हैं। उन्होंने ओलंपिक, पैरालंपिक और डेफलंपिक्स में शानदार प्रदर्शन का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि आज खेलों को लेकर मानसिकता बदल रही है। नया माहौल बन रहा है। “यह भारत के खेल इतिहास में एक सुनहरे अध्याय की तरह है और आप जैसे चैंपियन और आपकी पीढ़ी के खिलाड़ी इसके लेखक हैं। हमें इस गति को जारी रखने की जरूरत है”। वहीं पीएम ने देश के एथलीटों को पूरा समर्थन देने का आश्वासन दिया।

बता दें कि भारत की पुरुष बैडमिंटन टीम ने इतिहास रचते हुए 15 मई को फाइनल में 14 बार के चैंपियन इंडोनेशिया को एकतरफा मुकाबले में 3-0 से हराकर पहली बार थॉमस कप का खिताब जीता।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.