National Wheels

तुलसी : पुण्यकारक है, सेहत हेतु मुफीद भी !

तुलसी : पुण्यकारक है, सेहत हेतु मुफीद भी !

के. विक्रम राव @Kvikramrao

हाल ही में लखनऊ के एक साहित्यिक आयोजन में शरीक हुआ था। अनूठी प्रतीति हुई। मनभावन लगी। साझा करने की इच्छा जगी। कारण था कि इस बौद्धिक समारोह में वक्ताओं के अभिनंदन पर न तो महकते फूलों का कोई हार मिला। न कोई रंगीन गुलदस्ता, न ऊनी शाल, ना रेशमी उत्तरीय। बस पाया तो सादर प्रणाम तथा प्लास्टिक गमले में रोपित श्याम हरी तुलसी का पौधा। नायाब भेंट है। आप्त अनुष्ठान लगा। सभाओं इस रस्म का प्रयोग असरदार था, मौसम पर विशेषकर। बंजर पर रोक, प्राणवायु को बाधित न होने देना। इससे आंगन की शोभा ज्यादा बढ़ेगी ही। कुछ लोग जो ज्यादा जानते हैं, वे बताते हैं कि विष्णुवल्लभ और कृष्णप्रिया होने के कारण लक्ष्मी और राधा की तुलसी सौतन है। यह भ्रामक है, क्योंकि नाम अनेक हैं पर व्यष्टि तो एक अकेली है। विपर्यक नहीं है। आज निर्माण योजनाओं से जंगल फैल रहे हैं। उर्वरता घटती और बंजरता बढ़ती जा रही है। अत: तुलसी की आवश्यकता और उपयोगिता अधिक हो गई है।

इसे स्वास्थ्य से जोड़ें। भागवत पुराण में तुलसी को जड़ी बूटियों की महारानी कहते हैं। फलों में आम तथा फूलों में गुलाब की भांति। धरा और परमधाम के दरम्यान द्वार है। वनस्पतियों में पवित्रता का प्रतीक है। जन-औषधि है, स्वास्थ्यकर है। श्वास प्राणवायु में सहायक है, गुर्दावृक्क को साफ़ रखती है। मंदार, कुंदा, कुरुवाका, उत्पला, चम्पक, अर्ण, पुन्नगा, नागकेसर, वकुला, लिली, पारिजात इत्यादि में खुशबू तो हैं, पर उनमें तुलसी श्रेयस्कर है। गरुड़ पुराण में कहा गया है कि जिस शव का दहन तुलसी की टहनियों से होता है, वह मोक्ष पाता है। चेन्नई, नई दिल्ली, मुम्बई तथा अन्य क्षेत्रों में प्रकाशित वामपंथी, अंग्रेजी दैनिक हिन्दू के 10 अक्टूबर 2022 के अंक में संत पीटी शेषाद्रि ने अपने प्रवचन में बताया था कि भक्त प्रहृलाद ने पद्मपुराण में तुलसी की महिमा की चर्चा की थी। तब ऋषियों से भेंट पर भक्त सदानंद ने पापनाश तथा पुण्यवृद्धि हेतु तुलसी अवतरण के बारे में जानना चाहा था। उनके अनुसार समुद्र मंथन के समय धन्वंतरि अमृत कलश को लेकर आये। फिर तीन कण विष्णु भगवान नारायण की आंखों से गिरे थे। सर्वप्रथम आये लक्ष्मी तथा कौस्तुभ मणि जिन्हे भगवान ने अपने वक्ष पर लगाया। तीसरे कण से तुलसी जन्मी, जिसे उन्होंने अपने शरीर पर लगाया। तुलसी को विष्णु भगवान ने वर दिया कि जो उसकी आराधना करेगा, वह पापमुक्त हो जायेगा। हर पूजा पर अनिवार्य है। असंख्य गोदान के समय है।

भारत से तुलसी पश्चिम राष्ट्रों को गई। उसे “होली बेसिल” (पवित्र पौधा) कहते हैं। वहाँ वातावरण में स्वच्छता एवं शुद्धता और प्रदूषण का शमन करती है। तुलसी से घर परिवार में आरोग्य की जड़ें मजबूत करने, श्रद्धा तत्व को जीवित करने जैसे अनेकों लाभ हैं। तुलसी के नियमित सेवन से सौभाग्यशीलता के साथ ही, सोच में पवित्रता, मन में एकाग्रता आती है और क्रोध पर पूर्ण नियंत्रण हो जाता है। आलस्य दूर होकर शरीर में दिनभर स्फूर्ति बनी रहती है। तुलसी की सूक्ष्म व कारक शक्ति अद्वितीय है। यह आत्मोन्नति का पथ प्रशस्त करती है। गुणों की दृष्टि से संजीवनी बूटी है। तुलसी को प्रत्यक्ष देवी मानने और मंदिरों एवं घरों में उसे लगाने, पूजा करने के पीछे संभवत: यही कारण है कि यह सर्वदोष-निवारण औषधि सर्वसुलभ तथा सर्वोपयोगी है। धार्मिक धारणा है कि तुलसी की सेवापूजा व आराधना से व्यक्ति स्वस्थ एवं सुखी रहता है। अनेक भारतीय हर रोग में तुलसीदल—ग्रहण करते हुए इसे दैवीय गुणों से युक्त सौ रोगों की एक दवा मानते हैं। गले में तुलसी—काष्ठ की माला पहनते हैं।

तुलसी से जुड़ी कुछ कथायें भी हैं : एक वाकया है। तब सीता की खोज में हनुमान लंका गये थे। वहां विलम्ब हो रहा था। तभी हनुमान को एक घर में तुलसी का पौधा दिखा। वह विभीषण का महल था। लंका में विभीषण के घर तुलसी का पौधा देखकर हनुमान अति हर्षित हुये थे। इसकी महिमा के वर्णन में तुलसीदास ने कहा है : “नामायुध अंकित गृह शोभा वरिन न जाई। नव तुलसी के वृन्द तहंदेखि हरषि कपिराई।‘’ धर्मध्वज की पत्नी का नाम माधवी तथा पुत्री का नाम तुलसी था। वह अतीव सुन्दरी थी। जन्म लेते ही वह नारीवत होकर बदरीनाथ में तपस्या करने लगी। ब्रह्मा ने दर्शन देकर उसे वर मांगने के लिए कहा। उसने ब्रह्मा को बताया कि वह पूर्वजन्म में श्रीकृष्ण की सखी थी। राधा ने कृष्ण के साथ उसे रतिकर्म में देखकर मृत्युलोक जाने का शाप दिया था। कृष्ण की प्रेरणा से ही उसने ब्रह्मा की तपस्या की थी, अत: ब्रह्मा से उसने पुन: श्रीकृष्ण को पतिरूप में प्राप्त करने का वर मांगा। ब्रह्मा ने “कहा—तुम भी जातिस्मरा हो तथा सुदामा भी अभी जातिस्मर हुआ है, उसको पति के रूप में ग्रहण करो। नारायण के शाप अंश से तुम वृक्ष रूप ग्रहण करके वृंदावन में तुलसी अथवा वृंदावनी के नाम से विख्यात होगी। तुम्हारे बिना श्रीकृष्ण की कोई भी पूजा नहीं हो पायेगी। राधा को भी तुम प्रिय हो जाओगी।‘’ ब्रह्मा ने उसे षोडशाक्षर राधा मंत्र भी दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.