National Wheels

कन्हैया लाल के मर्डर को सचिन पायलट ने बताया आतंकी हमला, आज सीएम परिवार से करेंगे मुलाकात


Udaipur Murder Case Live: राजस्थान के उदयपुर में कन्हैया लाल की बर्बर हत्या मामले की जांच एनआईए ने टेक ओवर कर लिया है.  एनआईए की टीम ने बुधवार को घटनास्थल का दौरा किया, इसके अलावा एफएसएल की टीम भी थी. इस दौरान राज्य सरकार द्वारा गठित एसआईटी की टीम भी थी. गुरुवार को पीड़ित परिवार से मिलने के लिए सीएम अशोक गहलोत भी जाएंगे. उनके साथ राज्य के डीजीपी एमएल लाठर भी रहेंगे. वहीं राजस्थान के डीजीपी एमएल लाठर ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि अब तक मामले में 2 मुख्य आरोपी हैं. उनके अलावा हमने तीन अन्य लोगों को हिरासत में लिया है. 

क्या बोले डीजीपी?
डीजीपी ने बताया कि अभी तक की पूछताछ में सामने आया है कि ये लोग (मामले में मुख्य आरोपी) दावत-ए-इस्लामी नाम की संस्था से संपर्क में थे. इस प्रकरण को प्रारंभ से ही एक्ट ऑफ टेरर मानते हुए UAPA के अंतर्गत अभियोग पंजीबद्ध किया गया. एनआईए भी रात को ही हमारे अनुसंधान में जुड़ गई. जहां तक इनका (मुख्य आरोपी) सीमा पार कनेक्शन की बात है, जो भी डिजिटल साक्ष्य है उसकी जांच राजस्थान पुलिस अपने स्तर पर कर रही है. एनआईए का सहयोग भी लिया जा रहा है.

उन्होंने खुलसा किया कि आरोपी गौस मोहम्मद के मोबाइल में पाकिस्तान के 10 नंबर मिले हैं. दोनों पाकिस्तान और अरब देशों के लोगों से संपर्क में थे. दोनों आरोपी साल 2014 में 45 दिन के लिए पाकिस्तान के कराची भी गए थे और वहा अपने आकाओं से ट्रेनिंग ली थी. सूत्रों की मानें तो गोस मोहम्मद नेपाल के रास्ते से कराची गए था. जिस अंदाज में कन्हैयालाल को मारा गया, वह तालिबानी तरीका था. दोनों आरोपियों ने उदयपुर में व्हाट्सएप का सोशल मीडिया ग्रुप भी बना रखा है और लगातार इस ग्रुप में वीडियो भी पोस्ट करते रहते थे. अब पुलिस उस ग्रुप के एडमिन और मेंबर की जांच कर रही है.

इस संगठन से जुड़ा है कनेक्शन
बताया जा रहा है कि दोनों आरोपी उदयपुर में युवाओं को भड़काने का काम करते थे. यह भी जानकारी सामने आई है कि दोनों दावत-ए-इस्लामी नाम के पाकिस्तानी संगठन से जुड़े हैं. दावत ई इस्लामी संगठन के तार दिल्ली उदयपुर सहित देश के कई शहरों में जुड़े हो सकते हैं. गोस मोहम्मद पाकिस्तान में कराची के एक मौलाना के संपर्क में था. यह भी आशंका जताई जा रही है कि कन्हैयालाल का मर्डर पूरी तरह से प्री-प्लान्ड था. सूत्रों की मानें तो दोनों अपराधियों से कई युवा जुड़े हुए हैं, अब खुफिया एजेंसी उनकी भी तलाश कर रही है.

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.