National Wheels

अवध एक्स. में टिकट मांगने पर DyCIT के सिर में मारे 36 जख्म, गिरफ्तार, सुरक्षा की चिंता

अवध एक्स. में टिकट मांगने पर DyCIT के सिर में मारे 36 जख्म, गिरफ्तार, सुरक्षा की चिंता

कानपुर  : बिना टिकट ट्रेन में सवार दो मुसाफिरों ने टिकट और जुर्माना का दबाव बनने पर रेलवे के डिप्टी सीआईटी के सिर में 36 जख्म दे डाले। टूंडला स्टेशन पर डिप्टी सीआईटी पर जानलेवा हमले के दोनों आरोपियों को जीआरपी ने गिरफ्तार कर लिया है। गंभीर धाराओ में मुकदमा दर्ज किया गया है। उधर, टिकट चेकिंग स्टाफ ने अर्निंग का दबाव होने और सुरक्षा का मुद्दा उठाया है।

घटना 25 अगस्त की है। गाड़ी सं0 19038 में एक यात्री व टीटी के बीच मारपीट हुई। टीटीई गंभीर रूप से घायल है। बताते हैं कि टीटीई प्रमोद कुमार टिकट चेकिंग कर रहे थे। कोच में दो युवक बिना टिकट मिले। टिकट बनवाने और जुर्माना भरने का दबाव बनाने पर दोनो मारपीट पर आमादा हो गए। बताते हैं कि टीटीई को नुकीली चीजों से बार-बार सिर में मारा गया। मारपीट ऐसी हुई कि टीटीई के सिर से खून टपकने लगा कर्मचारियों का दावा है कि पीड़ित के सिर में सुई नुकीली चीज के करीब 36 जख्म मेडिकल में मिले हैं।

भरना और इटावा के बीच हुई घटना की जानकारी फैली तो टूंडला में ट्रेन को रोककर दोनों आरोपियों को पकड़ा गया। टीटीई का मेडिकल भी जीआरपी ने कराया है।

एनसीआर के सीपीआरओ डा शिवम शर्मा ने बताया कि मारपीट करने वाले दोनों विपिन भुजा (21 वर्ष) एवं नरेंद्र सिंह जिनके पास यात्रा का कोई टिकट नहीं था, जिन्होंने टीटीई प्रमोद कुमार के साथ मारपीट की थी। टीटीई के सिर से खून निकल रहा था। दोनों पार्टियों को जीआरपी टूंडला गाडी से उतार कर सभी का मेडिकल कराने ले गयी।

घटना के संबंध में टीटीई प्रमोद कुमार, डिप्टी सीआईटी टूंडला, डिप्टी सीआईटी टूंडला, डिप्टी सीआईटी की तहरीर के पर दोनों यात्रियों के विरुद्ध जीआरपी ने 12/2022 धारा 323/504/332/353/186 में द?अज किया गया है। घटना स्थल थाना क्षेत्र जीआरपी इटावा का होने के कारण विवेचना थाना जीआरपी इटावा भेजी जाएगी।

उधर, टिकट चेकिंग स्टाफ ने निरीक्षण पर गए डीआरएम समेत अन्य अफसरों के सामने अर्निंग का दबाव होने और कोचों में सुरक्षा न मिलने का आरोप लगाया है। कर्मचारियों का आरोप है कि टिकट चेकिंग से जुड़े तमाम कर्मियों से कार्यालय में बाबूगिरी कराई जा रही है। जुगाड़ टीटीई भी ट्रेन ड्यूटी नहीं कर रहे हैं। ऐसे कर्मियों की अर्निंग भी ड्यूटी करने वाले चेकिंग स्टाफ पर ही है। इसके कारण आए दिन ट्रेनों में यात्रियों से मारपीट की घटनाएं हो रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.