National Wheels

अयोध्या के चौराहों पर बिराजेंगे रामानुजाचार्य, रामानंदाचार्य, महर्षि वशिष्ठ, महर्षि वाल्मीकि व तुलसीदास जी जैसे संत

अयोध्या के चौराहों पर बिराजेंगे रामानुजाचार्य, रामानंदाचार्य, महर्षि वशिष्ठ, महर्षि वाल्मीकि व तुलसीदास जी जैसे संत

समीर शाही

अयोध्या : राम नगरी को वैदिक नगरी के रूप में विकसित किए जाने का प्रयास केंद्र और प्रदेश के द्वारा किया जा रहा है। लता चौक के सुंदरीकरण के साथ ही अयोध्या के प्रमुख मार्ग के चौड़ीकरण का कार्य शुरू हो चुका है।

नया घाट चौराहे को लता मंगेशकर के नाम समर्पित किए जाने के बाद अब अयोध्या में 10 और प्रमुख चौराहों को चिन्हित किए जाने की कार्रवाई शुरू हो गई है। प्रदेश सरकार की योजना है कि अयोध्या में रामानुजाचार्य, रामानंदाचार्य, महर्षि वशिष्ठ, महर्षि वाल्मीकि व संत तुलसीदास के नाम पर भी भव्य और आधुनिक चौराहा बनाया जाए। जिसकी घोषणा अयोध्या में लता मंगेशकर चौक के अनावरण के समय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कर चुके है। जल्द ही इन चौराहों के सौंदर्यीकरण का कार्य भी शुरू कर दिया जाएगा।

गौरतलब हो कि 28 सितंबर को अयोध्या में लता मंगेशकर के जन्मदिन के मौके पर सुश्री लता मंगेशकर चौक का उद्घाटन करने के दौरान सीएम योगी ने कहा था कि अयोध्या दुनिया का सबसे सुंदर और वैभवशाली नगर बनेगा इसमें कोई संदेह किसी को नहीं होना चाहिए और यह शुरुआत है मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के भव्य मंदिर निर्माण का इंतजार अब बहुत दिन तक नहीं करना पड़ेगा। हम लोग बार-बार दीपोत्सव के अवसर पर यहां पर हम लोग आते हैं और इस अवसर पर हमेशा आप से कहता हूं हमें भगवान श्रीराम के धैर्य, मर्यादा का पालन करते हुए भव्य राम मंदिर निर्माण के उन कार्यों के प्रति अपने आपको तैयार करना होगा। इसके लिए मैं अयोध्या पूज्य संतों के सानिध्य में जिस प्रकार से लता चौक इतना भव्य बना है।

सीएम ने कहा था कि ऐसे ही अयोध्या के हर चौराहों को इसी प्रकार की भव्यता देने के लिए पूज्य संतों के नाम से उन चौराहों के निर्माण कोई रामानुजाचार्य के नाम पर, रामानंदाचार्य के नाम पर, महर्षि वशिष्ठ, महर्षि वाल्मीकि व संत तुलसीदास के नाम पर तो कोई राम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़े हुए पूज्य संतों के नाम पर इसी प्रकार से भव्य चौराहों के निर्माण की कार्यवाहीं का शुभारंभ हो जाना चाहिए।जिससे अगले 1 वर्ष के अंदर इस कार्य को पूरा करके अयोध्या के सौंदर्यीकरण को एक नई ऊंचाई प्रदान करने का कार्य करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.