रामविलास के घर में खुला राजनैतिक मोर्चा, बेटी बोली- चिराग को बढ़ाया, बेटियों के साथ करते हैं भेदभाव

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के परिवार में भी अब सत्ता संघर्ष छिड़ गया है. रामविलास पासवान की बेटी आशा पासवान ने पिता के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. आशा ने आरोप लगाया है कि उनके पिता ने भाई चिराग पासवान को भी आगे बढ़ाने के बारे में सोचा है. ड्यूटी के बारे में कभी नहीं सोचा. आशा ने कहा कि उनकी अनदेखी की गई. क्योंकि उनके पिता बेटियों के साथ भेदभाव करते हैं.
गौरतलब है कि रामविलास पासवान की दो शादियां हुई हैं. आशा पासवान की मां रामविलास की पहली पत्नी है. वे बिहार के पैत्रिक गांव में रहती हैं. आशा के भाई चिराग पासवान रामविलास की दूसरी पत्नी के इकलौते बेटे हैं.
आशा पासवान ने केंद्रीय मंत्री रामविलास के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए ऐलान किया है कि वे अपने पिता के खिलाफ राष्ट्रीय जनता दल के टिकट पर चुनाव लड़ सकती हैं. आशा ने कहा कि उन्हें राजद ने टिकट दिया तो वे हाजीपुर से पिता के खिलाफ मैदान में उतरेंगी. आशा पासवान ने राजद नेता लालू प्रसाद यादव को चाचा और तेजस्वी तेजप्रताप यादव को अपना छोटा भाई बताया है.
आशा ने अपने पिता और भाई पर बड़ा आरोप लगाया है. उन्होंने दोनों पर परिवार के सदस्यों की अनदेखी और मनमानी करने का आरोप लगाया है. कहा, पिता रामविलास पासवान अब दलितों के नहीं, सवर्णों के नेता हो गए हैं.
इसके पहले रामविलास पासवान के दामाद व आशा के पति अनिल साधु ने कहा था कि यदि राजद उनकी पत्नी को टिकट देती है तो वे निश्चित रूप से रामविलास के खिलाफ चुनाव लड़ेंगी. उन्होंने कहा, सिर्फ मेरा नहीं सभी अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोगों का अपमान रामविलास पासवान ने किया है. दलित उनके बंधुआ मजदूर नहीं है.
माना जा रहा है कि रामविलास पालवान को घेरने के लिए राजद की ओर से उनकी बेटी और दामाद को आगे खड़ा किया जा रहा है. भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश में बसपा प्रमुख मायावती के दलित मतों पर कब्जा करने के लिए रामविलास पासवान को आगे बढ़ा रहे हैं. साथ ही बिहार में भी दलितों के मतों के लिए पासवान को तवज्जो दी जा रही है. पासवान को कमजोर करने के लिए उनको घेरकर कमजोर करने का यह प्रयास सफल हुआ तो बिहार में सीटों की संख्या में फर्क पड़ सकता है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *