रेलवे 11000 से अधिक नौकरियों पर डालेगा ताला

रेलवे बोर्ड ने वित्त वर्ष 2018 19 मई 17 जोनल रेलवे में बेकार पड़े करीब 11000 पदों को खत्म करने जा रहा है. रेलवे बोर्ड ने इन पदों को खत्म करने के लिए जोनल रेलवे के महाप्रबंधक को पत्र लिखा है. यह कवायद आर्थिक बोझ को कम करने, प्रौद्योगिकी, कार्यशैली में बदलावों और अतिरिक्तता के मद्देनजर अपने कर्मचारियों की संख्या की समीक्षा करने के बाद यह फैसला किया गया है.
रेलवे बोर्ड की समीक्षा में 11040 पद लौटाए जाने योग्य चिन्हित किए गए हैं. यह पद या तो लंबे समय से खाली पड़े हैं या फिर प्रौद्योगिकियों उन्ननयन के चलते उनकी जरूरत नहीं रह गई है. पिछले साल ऐसे पदों की संख्या करीब 10000 थी. पत्र के अनुसार उत्तर रेलवे और दक्षिण रेलवे से 1500-1500, पूर्व रेलवे से 1100 और मध्य रेलवे से एक हजार कम करने को कहा गया है.
रेलवे सूत्रों के मुताबिक हर साल जोनल रेलवे को पदों के काम का विश्लेषण करने के बाद लौटाने योग्य पदों की पहचान करने का लक्ष्य दिया जाता है. कुछ जोन लक्ष्य को पूरा कर लेते हैं. कुछ आंशिक रूप से करते हैं और कुछ इसमें कामयाब नहीं हो पाते हैं. लेकिन यह कवायद अनिवार्य रुप से चलती रहती है. क्योंकि लौटाए जाने योग्य पदों में शामिल पद नई संपदाओं के वास्ते जरूरी सुरक्षा श्रेणी के पद तैयार करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं. फिलहाल भारतीय रेलवे में 1340000 कर्मचारी हैं. उसके बजट का बड़ा हिस्सा कर्मचारियों की तनख्वाह पर खर्च होता है. रेलवे के पुनर्गठन पर विवेक देवराय समिति ने सिफारिश की थी कि रेलवे कर्मचारियों के संबंध में तर्कसंगत करें यानी बेकार पड़े पदों को खत्म कर नई जरूरत के पदों को सृजित किया जाए. यह कदम उसी कवायद का हिस्सा है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *