नेहरू स्टेडियम से 20 मिनट में बिना टेंशन पहुंचें एम्स, एलिवेटेड कॉरीडोर शुरू

दिल्ली में अब जवाहरलाल नेहरु स्टेडियम से लेकर एम्स तक अब तक आप सिग्नल फ्री यात्रा कर सकते हैं. पहले से बने सराय काले खान से लेकर जवाहरलाल नेहरु स्टेडियम तक के हिस्से को मिलाने से सराय काले खां से एम्स तक लोगों को जाम का झाम नहीं मिलेगा. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को दिल्ली की बारापुला एलिवेटेड कॉरिडोर फेस 2 का उद्घाटन कर इसे आम लोगों के लिए खोल दिया है. यह एलिवेटेड कॉरीडोर जवाहरलाल नेहरु स्टेडियम से शुरू होकर आईएनए मार्केट स्थित अरविंदो मार्ग तक जाता है. इसकी लंबाई 2038 मीटर है.इस कारीडोर को छह लेन का बनाया गया है.
बताया जा रहा है कि इस कारीडोर के बनने से स्टेडियम से एम्स तक की करीब 3 किलोमीटर की दूरी में अब आधे घंटे तक की बचत होगी. इस कारीडोर को बनाने वाली कंपनी के एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर ने बताया कि इससे न सिर्फ समय की बचत होगी बल्कि नोएडा से एयरपोर्ट जाने वाले लोगों के लिए भी बड़ी राहत मिलेगी.
सिग्नल फ्री कॉरीडोर के शुरू होने से पर्यावरण को भी काफी लाभ होगा. जाम मुक्त यातायात दिल्ली में इससे कम से कम 10 टन कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन प्रतिदिन रुक सकेगा. इतनी बड़ी मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड को सोखने के लिए पौने दो लाख पेड़ों की जरूरत पड़ती है. इस कॉरिडोर को रिंग रोड से भी मिलाया गया है. एयरपोर्ट की ओर से आने वाले लोग यमुनापार या नोएडा जाने के लिए सिग्नल फ्री कॉरिडोर का उपयोग कर सकेंगे. इसमें दो लूप भी बनाए गए हैं. इसके शुरू होने पर सराय काले खां तक लालबती फ्री मिलेगी. इस परियोजना के तहत जवाहरलाल नेहरु स्टेडियम से सराय काले खान बस अड्डे तक पहले से ही यातायात सिग्नल फ्री है. पहली फेज में वर्ष 2010 से लेकर जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम के बीच 12:00 पर बना हुआ है.
5 साल में पूरा हुआ काम
इस कॉरिडोर आ शिलान्यास फरवरी 2013 में तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने किया था. परियोजना पूरी होने में पांच साल लग गए. इसके लिए ₹530 की अनुमानित वर्ष निर्धारित की गई थी. इसके शुरू हो जाने से वाहन चालकों को सराय काले खान से लेकर एंड तक आने जाने के खर्च में कटौती होगी. अनुमान है कि इस पुल से करीब 160 करोड़ का फायदा हो सकता हैं.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *