‘मोटा’ कहने पर मुन्ना बजरंगी की उड़ाई खोपड़ी, सुनील राठी ने कबूला जुर्म

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गैंगस्टर सुनील राठी ने पूर्वांचल के माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की बागपत जिला जेल में हुई हत्या से पर्दा उठा दिया है. सुनील राठी ने अपना जुर्म कबूल कर यह खुलासा कर दिया है कि हत्याकांड को उसी ने अंजाम दिया है. राठी से पुलिस ने घंटों पूछताछ की है. पूछताछ के बाद हत्या में इस्तेमाल हुई पिस्टल भी गटर से बरामद कर ली गई है. सुनील राठी बागपत जेल में ही बंद है.
पुलिस ने सुनील राठी के खिलाफ मुन्ना बजरंगी की हत्या का केस भी दर्ज कर लिया है. वहीं मुन्ना बजरंगी की पत्नी की ओर से दी गई तहरीर पर भी जांच की जा रही है. सोमवार को बागपत की जिला जेल में बंद सुनील राठी ने मुन्ना बजरंगी के सिर में 10 गोलियां मारकर उसकी हत्या कर दी गई. इस हत्याकांड के बाद जेल अधिकारियों से लेकर शासन प्रशासन और अंडरवर्ल्ड में खलबली मच गई है.
पूछताछ में सुनील राठी ने बताया कि उसी ने मुन्ना बजरंगी की हत्या की है. हत्या के बाद पिस्टल को गटर में फेंक दिया था. पुलिस के अनुसार एकल कक्ष के पास बैरिक संख्या 10 में सुनील राठी को रखा गया है. वहीं नौ नंबर बैरक में मुन्ना बजरंगी को रखा गया था. उसी के बाहर वारदात को अंजाम दिया गया था. मामले में जेलर और डिप्टी जेलर समेत पांच जेलकर्मियों को भी सस्पेंड कर दिया गया है.
कुख्यात अपराधी सुनील राठी ने पुलिस को पूछताछ के दौरान बताया है कि उसने मुन्ना बजरंगी की हत्या सिर्फ इसलिए कि क्योंकि बजरंगी ने उसे मोटा कह दिया था. लुक पर की गई टिप्पणी के कारण हुआ गुस्सा हो गया था और वारदात को अंजाम दिया. हालांकि, पुलिस अब भी उससे घटना भी अहम वजह जानने के लिए पूछताछ कर रही है. पूछताछ के दौरान खुलासा हुआ है कि मुन्ना बजरंगी रविवार की रात अपराधी विक्की सुनेरा की बैरक में रुका था. जबकि कुख्यात कैदियों को अलग-अलग तनहाई बैरिक में रखा जाता है. खुलासा यह भी हुआ है कि मुन्ना बजरंगी और सुनील राठी के बीच रात में भी बातचीत हुई थी.

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *