मोदी बोले-महात्मा गांधी और सैफुद्दीन शांति के लिए थे प्रतिबद्ध, पीएम के पहुंचने से बोहरा समुदाय विह्वल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को इंदौर में बोहरा समुदाय के सैफी मस्जिद में करीब एक घंटे तक रहे। वह यहां दाऊदी बोहरा समुदाय के अशर-ए-मुबारका समारोह में शामिल हुए। पीएम मोदी ने कहा कि आप सभी के बीच आना हमेशा मुझे एक प्रेरक अवसर देता है और काफी सुखद अनुभव देता है। प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री के इस कदम को राजनीति से जोड़कर भी देखा जा रहा है। बोहरा समुदाय मुख्यत: व्यापारिक समुदाय है। दाऊदी बोहरा समुदाय के सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन 53वें धर्मगुरु हैं। 12 सितंबर से इंदौर में उनके धार्मिक प्रवचन चल रहे हैं। सैयदना पहली बार इंदौर आए हैं। अशर-ए-मुबारका में पीएम मोदी के पहुंचने से बोहरा समुदाय के लोग प्रसन्न दिखे। वजह, बोहराओं के इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि देश का कोई प्रधानमंत्री उनके किसी सार्वजनिक समारोह में पहुंचा है.
पीएम मोदी ने कहा, ‘इमाम हुसैन अमन और इंसाफ के लिए शहीद हो गए। उन्होंने अन्याय और अत्याचार के विरुद्ध अपनी आवाज बुलंद की थी। उनकी सिखाई गई बातों की जितनी तब जरूरत थी, उससे ज्यादा आज है। हमें अपने अतीत पर गर्व है, वर्तमान पर विश्वास है और आने वाले कल के लिए हम आत्मविश्वास से भरे हुए हैं। बोहरा समाज के लोग विश्वभर में अपनी पहचान बना रहे हैं।’ 
गौरतलब है कि दाऊदी बोहरा समुदाय का धार्मिक मुख्यालय मुंबई में है। देश में इसके करीब 15 लाख सदस्य हैं। गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान और मध्य प्रदेश इनकी आबादी के मुख्य केंद्र हैं.
बोहरा समाज ने मेरा साथ दिया
उन्‍होंने कहा, ‘मेरा सौभाग्य है कि आप सभी का साथ और विश्वास मेरे साथ है। जन्मदिन के पहले ही आपने मुझे देशहित के लिए दुआएं दी। मैं जब गुजरात रहा तो बोहरा समाज ने मेरा साथ दिया और यहां इस पवित्र मंच से भी मुझे इतना प्यार मिला है। दांड़ी यात्रा के दौरान पूज्य बापू महात्मा गांधी सैफुद्दीन जी के घर रुके थे, दोनों शांति के लिए प्रतिबद्ध थे।’
बोहरा समाज के साथ मेरा रिश्ता बहुत पुराना
पीएम ने कहा कि बोहरा समाज के साथ मेरा रिश्ता बहुत पुराना है। मैं एक प्रकार का समाज सदस्य बन गया हूं। आज भी मेरे दरवाजे आपके परिवारजनों के लिए खुले हैं। मैनें कुपोषण के खिलाफ लड़ाई में बोहरा समाज से सहयोग मांगा था और बोहरा समाज और सैयद सहाब ने मेरा पूरा साथ दिया था। देश में पहली बार स्वास्थ सेवाओं पर इतना जोर दिया जा रहा है। आयुष्मान भारत का कार्यक्रम हम भारत में लागू करने जा रहे हैं। अमेरिका-यूरोप के कई देशों की जितनी जनसंख्या है। उतने लोगों के लिए हम इस योजना को लागू करने जा रहे हैं। मुझे बताया गया कि लगभग 11,000 लोगों को आपकी बदौलत अभी तक अपना घर मिल चुका है। सरकार भी 2022 तक सभी को घर देना चाहती है। शिक्षा, स्वास्थ और सेवा के क्षेत्र में सरकार को दिए गए आपके सहयोग से सरकार को काफी मदद मिल रही है।
प्‍यार और मोहब्‍बत सिखाता है धर्म 
दाऊदी बोहरा समाज के धर्मगुरु सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन ने कहा कि तीन दिन बाद मोदी जी का जन्मदिन हैं, मेरी पैगम्बर से दुआ करता हूं कि वे आपको स्वस्थ जीवन दें और लंबी आयु दें। आप देश के लोगों की भलाई के लिए काम करते रहें और देश को आगे बढ़ाने के प्रयास करते रहें। हर धर्म प्‍यार और मोहब्‍बत करना सिखाता है।
देश का कारोबारी अर्थव्‍यवस्‍था की रीढ़
देश का व्यापारी और कारोबारी अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। वो देश में रोज़गार पैदा करने वाली महत्वपूर्ण ईकाई है उसको जितना प्रोत्साहन संभव है दिया जा रहा है लेकिन ये भी सच है कि पांचों उंगलियां एक समान नहीं होतीं। हमारे बीच से ही ऐसे लोग निकलते हैं जो छल को ही कारोबार मानते है। बीते 4 वर्षों में सरकार ये साफ संदेश देने में सफल हुई है कि जो भी हो वो नियमों के दायरे में हो। जीएसटी, इंसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी जैसे अनेक कानूनों के माध्यम से ईमानदार कारोबारियों को प्रोत्साहित किया जा रहा है।
50 करोड़ गरीब भाई-बहनों के लिए संजीवनी
आयुष्मान भारत अभियान का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘अब आयुष्मान भारत देश के करीब-करीब 50 करोड़ गरीब भाई-बहनों के लिए संजीवनी बनकर आई है। एक साल में 5 लाख तक का मुफ्त इलाज सुनिश्चित करने वाली इस योजना का अभी ट्रायल चल रहा है। स्वच्छ भारत अभियान शुरू भले ही सरकार ने किया हो, लेकिन आज इस अभियान को देश की 125 करोड़ जनता चला रही है। गांव-गांव, गली-गली में स्वच्छता के प्रति एक अभूतपूर्व आग्रह पैदा हुआ है। चार वर्ष पहले तक जहां देश के 40 प्रतिशत घरों में ही टॉयलेट थे आज ये दायरा 90 फीसद से भी अधिक हो गया है। 
कल से ‘स्वच्छता ही सेवा है’ कार्यक्रम का आगाज
‘स्वच्छता ही सेवा है’ कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। यह कार्यक्रम हर वर्ष की तरह महात्मा गांधी के जन्मदिन तक चलेगा। मैं आपको इस कार्यक्रम से जुड़ने का न्यौता देने आया हूं। कल से स्वच्छता ही सेवा’ पखवाड़ा शुरू हो रहा है। मैं कल खुद देश के स्वच्छाग्रहियों, समाज में स्वच्छता के प्रति जनजागरण करने वाले आप जैसे नागरिकों, धर्मगुरुओं, कलाकारों, उद्यमियों, यानि समाज के हर वर्ग के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत करूंगा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *