#Kumbh2019: सबसे लंबी पेंटिंग का विश्व रिकार्ड बनाने की ओर बढ़े कदम

खूबसूरत पेंटिंग से सज रही नैनी जेल की दीवार, दुनिया की सबसे बड़ी धार्मिक पेंटिंग होगी

राजीव जायसवाल

प्रयागराज । इस बार माघ मास में आने वाले श्रद्धालुओं को प्रयागराज की दीवारें भी कुम्भ का दर्शन कराएंगी.  इसके लिए इन दिनों पूरे शहर को खूबसूरत वॉल पेंटिंग बनाकर सजाया जा रहा है.  यहां पांच विशेषज्ञ एजेंसियों को सरकार की ओर से लगाया गया है.
वॉल पेंटिंग के जरिए सरकार पूरी दुनिया को भारतीय संस्कृति, सभ्यता, परंपराओं, गौरवशाली इतिहास और कला से रूबरू कराएगी. पेंटिंग में धार्मिक बातों को विशेष तौर पर शामिल किया गया है. वहीं कुंभ से ठीक पहले इलाहाबाद के सेंट्रल नैनी जेल में एक विश्व रिकॉर्ड बनाने की कवायद शुरू कर दी गई है.

खूबसूरत चित्रकारी से सजाने वाली कंपनियों में एक नोएडा की मशहूर आर्ट कंपनी इनसॉल की योजना दीवार पर दुनिया की सबसे बड़ी धार्मिक पेटिंग बनाने की है. इसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में बतौर लारजेस्ट रिलीजियस पेंटिंग के तौर पर दर्ज कराया जाएगा. इसके लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड को सूचित कर दिया गया है.
जानकारी के मुताबिक इनसॉल की ओर से अलग-अलग थीम पर उनके 100 आर्टिस्टों की टीम शहर के अलग-अलग स्थानों पर काम कर रही है. नैनी जेल की दीवार पर दुनिया की सबसे बड़ी धार्मिक पेंटिंग बनाई जा रही है. इसके लिए 50 ऑर्टिस्टों की टीम काम कर रही है. इस दीवार की लंबाई 700 फुट और ऊंचाई औसतन 20 फुट है. इस पर पेटिंग बनाने का आधे से ज्यादा काम हो चुका है.

जल्द ही शेष काम भी पूरा कर लिया जाएगा. इस दीवार पर समुंद्र मंथन की थीम को दर्शाया जा रहा है. दीवार पर पूरे समुंद्र मंथन की कहानी पेंटिंग के जरिए बताई जाएगी. उम्मीद है कि गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड द्वारा इस पेंटिंग को दुनिया की सबसे बड़ी धार्मिकं पेंटिंग के तौर पर मान्यता दी जाएगी.प्रोजेक्ट मैनेजर दीपक सिंह ने बताया कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र पेंटिंग बनाने में जुटे हैं. गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में भी पेंटिंग को दर्ज कराने के लिए उन्हें सूचित कर दिया गया है.
शहर की दीवारों पर इन 11 थीम पर हो रही वॉल पेंटिंग
1. विशिष्ट व्यक्ति जैसे मदन मोहन मालवीय, जवाहर लाल नेहरू, चंद्रशेखर आजाद, मेजर ध्यानचंद आदि.
2. जैव विविधता गंगा नदी में वनस्पति और जीव आदि.
3. गंगा के महत्वपूर्ण घाट.
4. गंगा किनारे बने ऐतिहासिक किले आदि.
5. गंगा नदी पर बने कुछ ऐतिहासिक व बड़े पुल.
6. गंगा नदी के किनारे बसे प्रमुख शहरों की झलक.
7. गंगा में मनाए जाने वाले मुख्य पर्व जैसे छठ, कुंभ, देव दीपावली आदि.
8. गंगा घाटों को जोड़ने वाले प्रमुख मार्ग और उन सड़कों का दैनिक जीवन.
9. पंच प्रयाग जैसे देव प्रयाग, रुद्र प्रयाग, कर्ण प्रयाग, नंद प्रयाग और विष्णु प्रयाग.
10. चारों धाम- गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ का चित्रण.
11. गंगा के मुख्य बैराज जैसे भीमगोड़ा, चौधरी चरण सिंह, नरोरा व फरक्का बैराज आदि का आर्थिक महत्व.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...