इंदौर: 23 दिन में मासूम से रेप के आरोपी को फांसी की सजा

इंदौर के राजवाड़ा इलाके में 4 माह की बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के मामले में जिला अदालत ने अन्य समकक्ष न्यायपालिकाओं उनके लिए शानदार उदाहरण प्रस्तुत किया है. जिला अदालत ने आरोपी को दोषी करार देते हुए दोहरी फांसी की सजा सुनाई है. मामले में 23 दिन में सजा का फैसला हो गया है.

आरोपी को पुलिस ने घटना के अगले ही दिन पकड़ लिया था. इसके बाद आरोपी के खिलाफ लोगों में काफी आक्रोश देखने को मिला था, जिसे देखते भारी सुरक्षा बल के साथ आरोपी को कोर्ट रूम नंबर 55 में पेश किया गया. आरोपी भी पीड़ित परिवार के साथ राजवाड़ा के पास ओटली में रहता था. वह 20 अप्रैल को 4 माह की बच्ची को उठा ले गया था. उसके बाद उसने मासूम के साथ दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी थी.
बच्ची का रिश्तेदार था दुराचारी
घटना 19 अप्रैल सुबह की है. जब राजवाड़ा गेट से कुछ दूरी पर सो रहे परिवार ने बच्ची के गायब होने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी. इसके थोड़ी देर बाद पुलिस को शिवविलास पैलेस के एक कांप्लेक्स में बच्ची का शव पड़ा मिला. जांच में बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या की पुष्टि हुई थी, जिसके बाद सीसीटीवी कैमरे की मदद से आरोपी की पहचान कर पुलिस ने उसे 12 घंटे में दबोच लिया था. आरोपी नवीन पीड़ित परिवार का रिश्तेदार था. घटना को अंजाम देने से पहले उसका मासूमा से झगड़ा भी हुआ था जिसके चलते वह गुस्से में बताया गया था.
कोर्ट परिसर में जनता ने की आरोपी की पिटाई
मासूम से दुराचार के आरोपी को लेकर जनता में किस कदर गुस्सा था, कोर्ट परिसर में भी इसका दृश्य दिखा था. 21 अप्रैल को आरोपी को कोर्ट में पेशी के दौरान कोर्ट में मौजूद भीड़ भड़क उठी और आरोपी को पकड़कर मारने लगी. पुलिस बचाव कर आरोपी को कोर्ट से बाहर निकाला और मामले की गंभीरता को देखते हुए एसआईटी का गठन किया गया था. 27 अप्रैल को कोर्ट में सभी सबूत पेश किए. इसके बाद 28 अप्रैल से 7 मई तक रोजाना इस केस की सुनवाई की गई. बाइस दिन में 12 मई को कोर्ट ने फांसी की सजा सुना दी.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *