संगीतकार इलैयाराजा, अनवर जलालपुरी सहित जानीमानी हस्तियां 2018 के प्रतिष्ठित पद्म पुरस्कारों से सम्मानित

नई दिल्लीः राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जानेमाने संगीतकार इलैयाराजा, हिंदुत्व विचारक परमेश्वरन परमेश्वरन और 41 अन्य जानीमानी हस्तियों को 2018 के प्रतिष्ठित पद्म पुरस्कारों से सम्मानित कर रहे हैं। मंगलवार की शाम को राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में ये पुरस्कार दिए गए। माना जा रहा है कि पहली बार आमजन और देश की खुशहाली व गौरव से जुड़े ऐसे नामों को छांटा गया है जो पहले दिल्ली की गोलबंदी के आगे फीके पड़ जाते थे। इसमें पद्म पुरस्कारों को लेकर की गई टिप्पणी का भी रोल है जिसमें उन्होंने पद्म पुरस्कारों पर दिल्ली वालों के कब्जे की बात कही थी। कार्यक्रम में उप- राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्री और कई अन्य गणमान्य लोग पहुंचे हैं।

 

Music Composer Ilaiyaraaja receives Padma Vibhushan. #PadmaAwards pic.twitter.com/bro1KcQccv
— ANI (@ANI) March 20, 2018

सरकार ने इस साल गरीबों की सेवा करने वालों, नि: शुल्क शिक्षा मुहैया कराने वाले, स्कूल संचालित करने वालों और वैश्विक स्तर पर जनजातीय कलाकारों को लोकप्रिय बनाने वाली कई हस्तियों को पद्म पुरस्कारों के लिए चुना है. एक अधिकारी ने बताया कि इस साल 84 पद्म पुरस्कारों की घोषणा की गई थी. इस सूची में तीन पद्म विभूषण, नौ पद्म भूषण और 72 पद्मश्री पुरस्कार शामिल हैं.

Tennis player Somdev Devvarman receives Padma Shri award. #PadmaAwards pic.twitter.com/vjHGocQLGw
— ANI (@ANI) March 20, 2018

शटलर स्टार शटलर किदांबी श्रीकांत को पदमश्री

Shuttler Kidambi Srikanth received Padma Shri award #PadmaAwards pic.twitter.com/QfgDyLvYqW
— ANI (@ANI) March 20, 2018
पद्म पुरस्कार की सूची में भगवत गीता के 700 श्लोकों का उर्दू अनुवाद करने वाले शायर अनवर जलालपुरी, क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी, भज्जू श्याम, राजागोपालन वासुदेवन, रोमोलुसु ह्वाइटकर, सूफी गायक इब्राहीम सुतार, एल. सुबादानी देवी, मुरलीकांत पेटकर, भोजपुरी गायिका शारदा सिन्हा, संपत्त रामटेक, दामोदर गणेश बापट, खिलाड़ी पंकज आडवाणी, संदुक रूटी, लक्ष्मन पाई, तेजस फाइटर के डिजाइनर
मानस बिहारी वर्मा, भज्जू श्याम आदिवासी कलाकार, दूसरों के घरों में बर्तन माजकर अस्पताल बनवाने वाली सुभाषिनी, अरविंद गुप्ता, डाॅ रानी बंग व अभय बंग, जड़ी बूटी से इलाज करने वाले डाॅक्टर येशी थोनडेन और केरल में जड़ी बूटी से 500 किस्म की दवाएं बनाने वाली आदिवासी महिला शिक्षिका लक्ष्मी कुट्टी जैसे नाम भी हैं।

हर साल गणतंत्र दिवस की पूर्वसंध्या पर पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री पुरस्कारों की घोषणा की जाती है. पद्म पुरस्कार 2018 के लिए नामित शेष लोगों को दो अप्रैल को आयोजित विशेष कार्यक्रम में सम्मानित किया जाएगा.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *