पोर्न वेबसाइट की वीडियो से छेड़छाड़ कर छत्तीसगढ़ के PWD मंत्री की बनाई थी सेक्स सीडी, सीबीआई ने दबोचा

छत्तीसगढ़ की राजनीति में हंगामा मचाने वाली पीडब्ल्यूडी मंत्री राजेश मूणत की सेक्स सीडी कांड का खुलासा होने के करीब है. केंद्रीय जांच ब्यूरो की एक टीम ने मुंबई के एक फिल्म स्टूडियो में छापा डालकर विजय पांडेय नामक एक सबसे लंबी पूछताछ की है. सीबीआई ने उसके बयान भी दर्ज किए हैं. बताया जा रहा है कि फिल्म स्टूडियो में कार्यरत विजय पांडेय ने ही पोर्न वेबसाइट से वीडियो डाउनलोड कर टेंपरिंग की और राज के पीडब्ल्यूडी मंत्री राजेश मूणत की सेक्स सीडी को अंजाम दिया.
सूत्रों के मुताबिक सीबीआई ने विजय पांडेय के पास से पेन ड्राइव भी बरामद किए हैं. यह सभी पेन ड्राइव अलग-अलग नामों से हैं. यह भी बताया जा रहा है कि उसके पास से दो पासपोर्ट भी जप्त हुए हैं विजय पांडेय ने रायपुर के देना बैंक पर ₹50000 का बैंक लोन भी लिया हुआ है यहां के कई कारोबारियों से भी उसके नजदीकी संबंध बताए जा रहे हैं.
छत्तीसगढ़ की इस डर्टी सीडी कांड में अभी कई और खुलासे होने बाकी है. चर्चा है कि रायपुर के दो बड़े कारोबारी ने बिलासपुर हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर करने की तैयारी की है. यह दोनों कारोबारी विजय पांडेय के संपर्क में बताए जा रहे हैं. सीबीआई ने शुक्रवार को भाजपा के ही स्थानीय नेता कैलाश मुरारका से लंबी पूछताछ की थी और उसके बयान भी दर्ज किए थे. लवली खनूजा नामक स्थानीय व्यापारी के भी बयान दर्ज किए गए थे. बताते हैं कि कैलाश मुरारका ने सीबीआई के सामने सरकारी गवाह बनने की पेशकश की है. उसने रायपुर के कई ऐसे प्रभावशाली लोगों का नाम लिया है जो डर्टी CD के निर्माण और उसे वायरल करने की साजिश में शामिल थे.
CBI की जांच में यह तथ्य सामने आया है कि 27 अक्टूबर 2017 को जब मंत्री की सेक्स सीडी का खुलासा हुआ था तब पर्दे के पीछे से तमाम कुचक्री एक दूसरे के संपर्क में थे. सीडी के सामने आने से महीने भर पहले मुंबई के विजय पांड्या और रायपुर के एक कारोबारी ने भाजपा के बड़े नेताओं को यह CD दिखाई भी. इसका मकसद मंत्री से मोटी रकम ऐंठना था लेकिन मुंह मांगी कीमत नहीं मिलने से पांडया बैरंग मुंबई लौट गया. इसके महीनेभर बाद यह CD तेजी से वायरल हो गई.
सीडी कांड में आरोपी बनाने वाले कारोबारी लवली खनूजा के मुताबिक यह संयोग था कि वह 24 अक्टूबर को जिस फ्लाइट से दिल्ली गया. उसी फ्लाइट से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल भी सफर कर रहे थे. वह भी दिल्ली जा रहे थे. 26 अक्टूबर को संयोगवश फिर भूपेश बघेल दिल्ली से रायपुर लौटे. उस वक्त भी वह उसी फ्लाइट से रायपुर लौटा था. लवली का दावा है कि मुकेश बघेल से न तो उनकी बातचीत हुई और ना ही मुलाकात. एयरपोर्ट से मिले फुटेज के आधार पर सीबीआई उसे इस मामले में फंसा रही है. दरअसल, सीबीआई इस तथ्य की पड़ताल करने में जुटी है कि दिल्ली और रायपुर में पत्रकारों और कांग्रेसी नेताओं के पास आखिर कैसे डर्टी CD पहुंची? इस साजिश में आखिर कौन कौन शामिल थे.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *