सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में शशि थरूर संदिग्ध आरोपी, दिल्ली पुलिस ने प्रस्तुत की रिपोर्ट

सुनंदा पुष्कर केस में करीब 4 साल बाद दिल्ली पुलिस ने पटियाला हाउस कोर्ट में चार्जशीट प्रस्तुत कर दी है. पुलिस ने सुनंदा के पति और कांग्रेस नेता शशि थरूर को संदिग्ध आरोपी माना है. आईपीसी की धारा 304 और 498ए के तहत चार्जशीट प्रस्तुत की गई है.

जानकारी के अनुसार कांग्रेस नेता शशि थरूर की मुश्किलें बढ़ती सकती हैं. दिल्ली पुलिस द्वारा दाखिल चार्जशीट में उनको संदिग्ध आरोपी माना गया है. पटियाला हाउस कोर्ट 24 मई को इस चार्जशीट पर संज्ञान लेगा. इसी दिन कोर्ट शशि थरूर को समन जारी भी जारी कर सकता है. वही शशि थरूर ने इस चार्जशीट को अकल्पनीय बताया है.
भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि इसके केस से जुड़े सभी गवाहों और दस्तावेजों को यूपीए सरकार और भ्रष्ट पुलिस ने नष्ट कर दिया था. वर्तमान साक्ष्य के आधार पर चार्जशीट दाखिल हुई है. ट्रायल के दौरान अधिक सूचनाएं सामने आएंगी. शशि थरूर पर आरोप है कि उन्होंने अपनी पत्नी को आत्महत्या करने के लिए मजबूर किया था.
आपको बता दें कि 17 जनवरी 2014 की रात दिल्ली के एक फाइव स्टार होटल के कमरे में कांग्रेस नेता और सांसद शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर मृत मिली थी. कथित तौर पर इससे एक दिन पहले सुनंदा और पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार के बीच ट्विटर पर बहस हुई थी. यह बहस शशि थरूर के साथ मेहर की कथित लवस्टोरी को लेकर हुई थी. मौत के मामले में शशि सहित कई व्यक्तियों से पुलिस पूछताछ कर चुकी है. नारायण सिंह. चालक बजरंगी, दोस्त संजय दीवान का पालिग्राफिक टेस्ट कराया है. बिसरा को दोबारा जांच के लिए एफबीआई लैब भेजा गया, फिर भी कुछ पता नहीं लग पाया था.
29 सितंबर 2014 को एम्स के मेडिकल बोर्ड ने सुनंदा के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट दिल्ली पुलिस सौंपी थी. इस रिपोर्ट में कहा गया कि सुनंदा की मौत जहर से हुई है. इसमें कहा गया था कि कई ऐसे रसायन है जो पेट में जाने या खून में मिलने के बाद जहर बन जाते हैं. लिहाजा, उनके वास्तविक रूप के बारे में पता लगाना बहुत मुश्किल होता है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद एक जनवरी 2015 को सरोजिनी नगर थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज कर लिया गया था. इसके बाद सुनंदा के विसरा को जांच के लिए एफबीआई लैब अमेरिका भेज दिया गया था. वहां की लैब में भी जहर के बारे में पता नहीं लग सका. पुलिस ने फॉरेंसिक साइकोलोजी एनालिसिस टेस्ट भी कराया था.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *