ऑस्ट्रिया की दक्षिणपंथी सरकार सात मस्जिदों पर लगाएगी ताला

ऑस्ट्रिया की दक्षिणपंथी सरकार राजनीतिक इस्लाम के खिलाफ मुहिम पेज करने का फैसला किया है. सरकार ने देश की सात ऐसी मस्जिदों को बंद करने का फैसला लिया है जहां संदिग्ध गतिविधियां होने का अंदेशा है. विदेश से फंड लेने वाले लगभग 60 इमामों को भी देश से बाहर निकालने की तैयारी की है. सरकार की ओर से कहा गया है कि यह महज एक शुरूआत है. ऑस्ट्रिया की कुल अट्ठासी लाख आबादी में मुस्लिमों की संख्या 600000 है.
ऑस्ट्रेलिया में मस्जिदों के जरिए धार्मिक कट्टरता फैलाने का अंदेशा जताया गया है. इसे देखते हुए दक्षिण पर भी सरकार ने कड़े कदम उठाने शुरू किए हैं. इसका व्यापक असर मुस्लिम आबादी पर पड़ने की आशंका है. मुस्लिम विचारधारा और धार्मिक समूहों को विदेशी फंडिंग के खिलाफ सरकार ने साफ कहा है कि उसकी कार्यवाही ऐसे मामलों में जारी रहेगी. ऑस्ट्रेलिया के चांसलर सेबस्टियन कर्ज ने कहा कि समानांतर समाज राजनीतिक इस्लाम और कट्टरपंथी विचारधारा के लिए हमारे देश में कोई जगह नहीं है. 2015 में एकीकरण मंत्री का प्रभारी रहते हुए उनकी निगरानी में ही ऑस्ट्रेलिया ने इस्लाम पर कानून बनाया था. सरकार ने यह फैसला उसी कानून के तहत लिया है. उस कानून में सांप्रदायिक संगठनों को विदेश से फंड लेने पर रोक का प्रावधान है.
दूर दक्षिणपंथी वाइस चांसलर हैंज क्रिस्चियन स्ट्रेच ने कहा कि सरकार एटीआईवी से संबंधित 60 इमामों को भी देश से निकालने या उनका वीजा रद्द करने पर विचार कर रही है. 40 इमामों को इस सिलसिले में सूचना दी जा चुकी है और 11 की समीक्षा की जा रही है. एटीआईवी को तुर्की का करीबी मुस्लिम संगठन माना जाता है. सरकार ने एक बयान में कहा है वियना में एक मस्जिद का संचालन करने वाली ‘ग्रे वाल्व्स’ सोसाइटी को भी अवैध गतिविधियों में शामिल रहने के आरोप में बंद किया जाएगा.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *