कांग्रेस को हीरो बनाने वाली कंपनी का सीईओ एफबी डाटा लीक में सस्पेंड

डेस्क। गुजरात चुनाव में कांग्रेस का प्रबंधन संभालने वाली ब्रिटिश कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका का सीईओ अलेक्जेंडर निक्स फेसबुक डाटा लीक मामले में सस्पेंड कर दिया गया है। इस मामले के खुलासे के बाद फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्क को एक दिन में करीब अरबों डाॅलर का नुकसान हुआ है।
अमेरिका में साल 2016 में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान 5 करोड़ फेसबुक यूजर्स का निजी डाटा चुराने का आरोप कैंब्रिज एनालिटिका पर लगा था। इस कंपनी ने ही वर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का चुनावी प्रबंधन किया था। ट्रंप के पक्ष में कंपनी ने आक्रामक चुनावी अभियान चलाया था। इसी से प्रभावित होकर कांग्रेस ने भी गुजरात चुनाव में इस कंपनी को प्रबंधन का काम सौंपा था। इससे पहले फेसबुक ने भी ट्रंप को राष्ट्रपति चुनाव में जीत में मदद करने के आरोप में ‘कैम्ब्रिज ऐनलिटिकल’ को निलंबित कर दिया था।

न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर के मुताबिक ब्रिटेन के चार न्यूज चैनल में ये खबर दिखाए जाने के बाद अलेक्जेंडर को संस्पेंड करने का फैसला किया गया। बता दें कि अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान डोनाल्ड ट्रंप की मदद करने वाली एक कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका पर 5 करोड़ फेसबुक उपभोक्ताओं की निजी जानकारी चुराने का आरोप लगा है। इसी जानकारी को अमेरिका में हुए राष्ट्रपति चुनाव के दौरान इस्तेमाल किया गया था। मामले के सामने आते ही अमेरिका और यूरोपीय सांसदों ने फेसबुक इंक से जवाब मांगा और जुकरबर्ग को उनके सामने पेश होने के लिए कहा है। इसके चलते फेसबुक के शेयर 7% टूट गए। शेयर की कीमत घटने की वजह से फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्क को एक दिन में करीब 395 अरब रुपये का झटका लगा है।

सख्त नियम के लिए दबाव बनेगा
वैसे तो फेसबुक की ओर से पहले ही यह बताया गया था कि साल 2016 में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव से पहले उसके प्लेटफॉर्म का प्रचार-प्रसार करने वाले रूसी लोगों ने कैसे इस्तेमाल किया था। लेकिन अब जुकरबर्ग के सवालों के घेरे में आने के बाद इस सोशल नेटवर्किंग साइट्स के सख्त रेग्युलेशन का दबाव बन सकता है। ब्रिटेन के एक सांसद ने कहा है कि देश के प्राइवेसी वॉचडॉग को अधिक ताकत मिलनी चाहिए।

क्या है कैंब्रिज एनालिटिका
कैंब्रिज एनालिटिका एक निजी कंपनी है, जो डाटा माइनिंग और डाटा एनालिसिस का काम करती है। इसके सहारे ब्रिटेन के लंदन की यह कंपनी चुनावी रणनीति तैयार करने में राजनीतिक पार्टियों की मदद करती है। कंपनी से जुड़े एक कर्मचारी क्रिस्टोफर ने नैतिकता को आधार बनाते हुए ये जानकारी सार्वजनिक की थी कि उनकी फर्म ने चुनावों को प्रभावित करने और ट्रंप को फायदा पहुंचाने के लिए फेसबुक के उपभोक्ताओं के डाटा का इस्तेमाल किया था।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *