शिक्षक बनने को तैयार बेरोजगारों के लिए खुशखबरी, माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड का हुआ पुनर्गठन

लखनऊ। समाजवादी पार्टी की सरकार के दौरान भर्तियों में भ्रष्टाचार को लेकर करीब 8 महीने पहले भंग किए गए माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड का गठन फिर हो गया है। योगी सरकार ने सेवानिवृत्त आईएएस बीरेश कुमार को नए बोर्ड का अध्यक्ष बनाया है। इसके साथ ही 6 सदस्यों की भी नियुक्त की गई है।

उप मुख्यमंत्री एवं माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा मंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा ने बताया कि 6 सदस्यों में इलाहाबाद के ईश्वर शरण पीजी कॉलेज के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ धीरेंद्र द्विवेदी, वाराणसी के सनातन धर्म इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉक्टर हरेंद्र कुमार राय, विकास नगर लखनऊ के रमेश, SSB कॉलेज हापुड़ के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ अजीत सिंह, एलपीके इंटर कॉलेज गोरखपुर के प्रधानाचार्य डॉक्टर दिनेश मणि त्रिपाठी और आगरा कॉलेज के एसोसिएट प्रोफेसर डॉक्टर ओम प्रकाश राय को सदस्य बनाया गया है।

11.91 लाख आवेदकों के चयन का रास्ता साफ

माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के पुनर्गठन से अशासकीय सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षकों और प्रधानाचार्यों के 12720 पदों पर नियुक्तियों का रास्ता साफ होने की उम्मीद बढ़ गई है। इन पदों पर करीब 11.91 लाख लोगों ने आवेदन किए हैं। आपको बता दें कि प्रदेश में सरकार बदलने के बाद अगस्त 2017 में माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड को भंग कर दिया गया था। उस समय तक TGT के 7950 और प्रवक्ता के 1344 पदों पर आवेदन लिए जा चुके थे। अक्टूबर 2017 में परीक्षा कराने की तैयारी थी लेकिन शासन के निर्देश पर बोर्ड भंग हो जाने से यह भर्ती अटक गई। वहीं टीजीटी/पीजीटी-2011 के तहत 1800 से अधिक पदों के लिए परीक्षा हो चुकी है। साक्षात्कार के बाद कुछ विषयों के परिणाम भी जारी हो चुके हैं। कई विषयों के परिणाम रुके हुए हैं। जिसे बोर्ड के नए अध्यक्ष और सदस्यों के कार्यभार ग्रहण करने और बैठक में प्रस्ताव पारित होने के बाद शुरू किए जाने की संभावना है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *