कांग्रेस सांसद ने राम और सीता के अलगाव को तीन तलाक से जोड़ा, हंगामा

तीन तलाक हिंदी प्रस्तुत करने को लेकर संसद में तकरार बढ़ गई है. संभावना इस बात की है कि कैबिनेट में संशोधन के बाद राज्यसभा में पास हो जाएगा. लेकिन इससे पहले ही कांग्रेस नेता हुसैन दलवाई के बयान पर हंगामा खड़ा हो गया है. कांग्रेस सांसद हुसैन दलवाई ने हिंदुओं के आदर्श भगवान राम और सीता के अलगाव को तीन तलाक से जुड़ने की कोशिश की है.

हुसैन दलवई ने कहा कि हिंदू, सिख, इसाई धर्म में भी पुरुषों का ही वर्चस्व है. श्री रामचंद्र ने भी शक के आधार पर सीता जी को छोड़ दिया था. हमें पूरी प्रणाली को बदलना होगा. उन्होंने कहा, सिर्फ मुस्लिम ही नहीं बल्कि महिलाओं के साथ हर समाज में गलत तरीके से व्यवहार होता है.
शुक्रवार को संसद के मानसून सत्र का आखिरी दिन है. राज्य सभा में आज ही तीन तलाक का बिल प्रस्तुत किए जाने की संभावना है. नए बिल में तीन तलाक (तलाक ए बिद्दत) के मामले को गैर जमानती अपराध तो माना गया है लेकिन संशोधन के हिसाब से मजिस्ट्रेट को जमानत देने का अधिकार होगा.
विधेयक में एक और संशोधन किया गया है. इसमें पीड़ित की रिश्तेदार जिससे उसका खून का रिश्ता हो तो ही वह शिकायत दर्ज कर सकता है. बता दें कि पिछले सत्र में राज्यसभा में इस विधेयक पर सत्ता पक्ष और विपक्ष में तीखी नोकझोंक हुई थी. विपक्ष की तरफ से विधेयक को त्रुटिपूर्ण बताते हुए प्रवर समिति में भेजने की मांग की गई थी.
राज्यसभा में महाराष्ट्र से कांग्रेस सांसद हुसैन के बयान पर विवाद छिड़ गया. तीन तलाक बिल पर रणनीति बनाने को लेकर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार के दफ्तर में एक बैठक बुलाई. इसमें अनंत कुमार के अलावा कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद भी मौजूद रहे. बता दें कि गुरुवार को राज्यसभा में उपसभापति के चुनाव में एनडीए ने बड़ी जीत हासिल की है. एनडीए की स्थिति मजबूत नजर आ रही है. ऐसे में सरकार की कोशिश होगी कि वह संसद में तीन तलाक बिल पास करा ले.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *