भारत की नई उड़नपरी सीमा दास, 18 साल की उम्र में तोड़ा पीटी उषा और मिल्खा का रिकॉर्ड

आईएएएफ की ट्रैक स्पर्धा में भारत को स्वर्ण पदक हासिल हुआ है. भारत की सीमा दास ने गुरुवार को फिनलैंड के टेंपेरे में जारी आईएएएफ वर्ल्ड अंडर 20 चैंपियनशिप की महिलाओं की 400 मीटर स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया है.
सीमा दास ने इस उपलब्धि के साथ उस सूखे को भी खत्म कर दिया जो भारत के मिल्खा सिंह और अपने जमाने की उड़नपरी कही जाने वाली पीटी उषा भी नहीं कर पाए थे. सिम आधार से पहले भारत की कोई महिला या पुरुष खिलाड़ी जूनियर या सीनियर किसी भी स्तर पर विश्व चैंपियनशिप में गोल्ड या कोई भी मेडल नहीं प्राप्त कर सका था. हिमा की उपलब्धि इसलिए और भी महत्वपूर्ण हो जाती है.

हिमा दास से पहले सबसे अच्छा प्रदर्शन मिल्खा सिंह और पीटी उषा का रहा था. पीटी उषा ने 1984 में ओलंपिक में 400 मीटर हर्डल रेस में चौथा स्थान हासिल किया था. वही मिल्खा सिंह 1960 के रियो ओलंपिक में 400 मीटर रेस में चौथे स्थान पर रहे थे. इन दोनों के अलावा कोई भी खिलाड़ी ट्रैक इवेंट में मेडल के आसपास भी नहीं पहुंच सका है.

Hima ने राखी ना स्टेडियम में खेले गए फाइनल में 51.46 सेकंड का समय निकालते हुए जीत हासिल की इसी के साथ वह इस चैंपियनशिप में सभी आयु वर्गों में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारत की पहली खिलाड़ी बन गई हैं. एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया ने भी सीमा दास को शानदार सफलता के लिए बधाई दी है बुधवार को हुए सेमीफाइनल में भी हिमा दास ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 52.1 सेकेंड का समय निकालकर पहला स्थान हासिल किया था. पहले दौर की हीट में भी वह 52.25 समय के साथ पहले स्थान पर थीं.

इसके साथ ही हिमा दास भाला फेंक के स्टार खिलाड़ी नीरज चोपड़ा की सूची में अपना नाम दर्ज करा लिया है. नीरज ने 2016 में विश्व रिकॉर्ड प्रयास के साथ स्वर्ण पदक जीता था. हालांकि, वह इस प्रतियोगिता के इतिहास में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली ट्रैक खिलाड़ी हैं.
विश्व जूनियर चैंपियनशिप में भारत के लिए इससे पहले सीमा पूनिया 2002 में चक्का फेंक में कांस्य और नवजीत कौर ढिल्लों 2014 में चक्का फेंक में कांस्य पदक जीत चुके हैं.
हिमा मौजूदा अंडर-20 सत्र में सर्वश्रेष्ठ समय निकालने के कारण खिताब की प्रबल दावेदार थी. वह अप्रैल में गोल्ड कोस्ट में हुए राष्ट्रमंडल खेलों की 400 मीटर स्पर्धा में तत्कालीन भारतीय अंडर-20 रिकॉर्ड 51.32 सेकेंड के समय के साथ छठे स्थान पर रही थी. इसी राष्ट्रमंडल खेलों की 4×400 मीटर स्पर्धा में उन्होंने सातवां स्थान हासिल किया था.
इसके बाद हाल में राष्ट्रीय अंतर्राज्य चैंपियनशिप में हिमा ने 51.13 सेकंड के साथ अपने रिकार्ड में सुधार किया. उन्होंने गोल्ड मेडल अपने नाम किया था.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *