जिन ट्रेनों में कम यात्री, वह हो सकती है रद्द

दिल्ली। ट्रेनों का समय पर चलाना सुनिश्चित करने के लिए रेलवे की एक समिति ने कुछ सुझाव दिए हैं। समिति की रिपोर्ट पर अमल हुआ तो रेलवे ऐसी ट्रेनों को बंद कर सकता है जिनमें यात्रियों की संख्या लगातार कम रहती है। इससे समिति ने यह आकलन किया है कि जिन ट्रेनों में यात्री सवार नहीं होना चाहते उन्हें चलाकर दूसरी ट्रेनों का रास्ता न रोका जाए। इन्हें बंद करने से रेलवे का घाटा भी कम होगा। रेलवे बोर्ड ने सभी जोनल रेलवे को इस पर अमल के लिए भेजा है।
समिति के अनुसार कम यात्री संख्या वाली रेलगाड़ियां रद्द की जा सकती है। ट्रेनों के ठहराव के समय में कमी की जा सकती है। ट्रेनों की समय सारिणी को ठीक करने पर रिपोर्ट रेलवे बोर्ड को सौंपी गई है जिसमें रेलवे जोन के प्रदर्शन में सुधार के लिए कई सुझाव दिए गए हैं।
रिपोर्ट में कहा गया है, ‘अगर ट्रेनों में यात्रियों की संख्या काफी कम है तो उन्हें रद्द किया जा सकता है और उपलब्ध ट्रेनों में यात्रियों को समायोजित किया जा सकता है।’ पीटीआई के अनुसार अधिकारियों ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने विभिन्न जोन को निर्देश जारी कर दिए हैं कि खर्चीले हॉल्ट की सूची बनाई जाए और या तो उन्हें खत्म किया जाए या वहां ठहराव के समय में कमी लाई जाए। रिपोर्ट में बोर्ड को दीर्घ समय और अल्प समय में किए जाने वाले सुधारों पर भी सुझाव दिए गए हैं।
कम समय के लक्ष्य में इसने रेल पटरियों पर बाड़ लगाने का प्रस्ताव दिया है ताकि मनुष्य, जानवर और वाहनों को इनसे दूर रखा जाए। रिपोर्ट में कहा गया है कि लंबे समय के उपायों में ट्रेनों के समय पर चलने के लिए रेलवे को उपनगरीय और मुख्य लाइन कोरीडोर को अलग करना चाहिए। साथ ही मालगाड़ी और कोचिंग कोरीडोर भी यथासंभव अलग किए जाने चाहिए।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *