इलाहाबाद में मुसलमानों ने खुद मस्जिद गिराई

कुंभ के लिए हो रहे काम में सरकार की मुहिम में दिया सहयोग

इलाहाबाद। जनवरी 2019 में इलाहाबाद में कुंभ लगेगा.  इस धार्मिक आयोजन में भाग लेने देश ही नहीं दुनिया भर से लोग यहां आएंगे. इसी को ध्यान में रखते हुए शहर की सड़कों को चौड़ा करने के साथ सिटी को सुंदर बनाने की कवायद भी चल रही है. इसी क्रम में शहर के पुराने इलाकों में सरकारी जमीन पर बने मस्जिदों को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने खुद तोड़कर सरकार की मुहिम में सहयोग दिया है.

मंगलवार यानी 3 जुलाई को मस्जिदों के उस भाग को गिरा दिया गया जो सरकारी जमीन पर बने थे. मुस्लिम समुदाय का कहना है कि ऐसा हमने अपनी मर्जी से किया है. ये सभी मस्जिद सरकारी जमीन पर बनी थीं, जिसे गिरा दिया गया. कुंभ मेला के लिए सरकार शहर को सुंदर बना रही है, हम उसका समर्थन करते हैं.  शहर का पुराना हिस्सा घनी आबादी वाला है . यहां पर सड़कों को चौड़ा करने के लिए जगह की आवश्यकता थी, लिहाजा स्थानीय मुसलमानों ने खुद-ब-खुद यह कदम उठाया.

दूसरी ओर इंदिरा भवन के सामने सिविल लाइंस स्थित मस्जिद भी सड़क चौड़ीकरण के दायरे में है. यह भी रोड पटरी पर निर्मित है. कहा जा रहा है कि ये मस्जिद लगभग 316 साल पुरानी है. मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन ने मस्जिद से छेड़छाड़ पर आंदोलन की चेतावनी दी है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *